सातवीं जेपीएससी:अभ्यर्थियों का सवाल- पीटी में 57 ओएमआर शीट गायब थी, तो इनमें से 49 कैसे हुए थे प्रोविजनल पास

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जेपीएससी की पीटी परीक्षा रद्द करने को लेकर धरना देते अभ्यर्थी। - Dainik Bhaskar
जेपीएससी की पीटी परीक्षा रद्द करने को लेकर धरना देते अभ्यर्थी।
  • अब पीटी रद्द करने के लिए राज्य भर में धरना देंगे अभ्यर्थी

झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) द्वारा सातवीं राज्य सिविल सेवा की पीटी के नतीजे एक नवंबर को घोषित किया गया था। इसके साथ शुरू हुआ विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। जेपीएससी से अभ्यर्थी पूछ रहे हैं कि जब 57 अभ्यर्थियों का दो में से एक पेपर की ओएमआर शीट गायब थी तो 49 अभ्यर्थियों को आयोग ने प्रोविजनल पास कैसे कर दिया, जिसे बाद में फेल कर दिया।

छात्र नेता मनोज यादव ने कहा कि गायब ओएमआर शीट का मूल्यांकन कैसे किया गया? आयोग को इसका जवाब देना चाहिए। इधर, अभ्यर्थियों ने अब राज्य भर में पीटी परीक्षा रद्द करने को लेकर धरना देने का निर्णय लिया है। सोमवार को अभ्यर्थियों ने हजारीबाग में धरना दिया। देवेंद्र नाथ महतो ने कहा कि मोरहाबादी से मुख्यमंत्री आवास तक मुख्यमंत्री न्याय गुहार यात्रा सफल बनाने को लेकर एक दिवसीय धरना दिया। साथ ही उपायुक्त के माध्यम से राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपकर पीटी में गड़बड़ियों की ओर ध्यान आकृष्ट कराया है।

देवेंद्र नाथ महतो, अनुज शंकर, कहकशा कमाल, परवेज आलम, सुरेंद्र पासवान, सत्यनारायण शुक्ला और अमित ने संयुक्त रूप से कहा कि पीटी में धांधली हुई है। फेल को पास और पास को फेल किया गया है। इतना ही कट ऑफ से कम अंक रहने के बाद भी अभ्यर्थी पास हुए है। कट ऑफ से अधिक लाने वाले फेल है।

गड़बड़ी की जांच सीबीआई से कराने की मांग : सातवीं जेपीएससी को रद्द करने और गड़बड़ियों की जांच सीबीआई से कराने की मांग अभ्यर्थियों ने की है। धरना-प्रदर्शन में में अनुज शंकर, रूपेश पाननी, नरेश, संजय राणा, अमित कुमार, रोहित, राजेश, नागेंद्र, प्रवीण, विनोद, बबीता, नमिता, संगीता, गीता, रानी, फुलमनी, चंदन, राजकुमार समेत अन्य शामिल हैं।

खबरें और भी हैं...