शंभू अग्रवाल 9वीं बार बने रांची बार एसोसिएशन के अध्यक्ष:12 घंटे से भी ज्यादा समय तक चली मतों की गिनती में बार एसोसिएसन के सबसे ताकतवर महासचिव पद पर संजय विद्रोही का लगातार दूसरी बार कब्जा

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल कोर्ट के न्यू बार भवन में मतगणना को लेकर सुबह से देर रात तक गहमागहमी रही। एसोसिएशन के सदस्य पल-पल के रुझान की जानकारी ले रहे थे। - Dainik Bhaskar
सिविल कोर्ट के न्यू बार भवन में मतगणना को लेकर सुबह से देर रात तक गहमागहमी रही। एसोसिएशन के सदस्य पल-पल के रुझान की जानकारी ले रहे थे।

रांची जिला बार एसोसिएशन के नतीजे की घोषणा बुधवार को हो गई है। सत्र 2021-23 के लिए हुए चुनाव में शंभू प्रसाद अग्रवाल लगातार आठवीं बार अध्यक्ष पद पर अपना कब्जा बरकरार रखा है। वहीं महासचिव पद पर संजय कुमार विद्रोही ने दूसरी बार जीत दर्ज की है। विद्रोही ने अनिल कंठ को 315 वोटों से पराजित किया है।

वहीं उपाध्यक्ष पद पर बिनय कुमार राय ने लगातार दूसरी बार जीत दर्ज की है। प्रशासनिक सचिव पद पर पवन रंजन खत्री एक बार फिर विजयी रहे हैं । संयुक्त सचिव पुस्तकालय पद पर प्रदीप कुमार चौरसिया ने पहली बार जीत हासिल की है।

कोषाध्यक्ष के पद पर मुकेश कुमार केसरी ने पहली बार जीत हासिल की है। सहायक कोषाध्यक्ष के रूप में दीन दयाल सिंह पहली बार चुनाव जीते हैं। मतों की गिनती लगातार 12 घंटे से ज्यादा सुबह 5:15 तक चला। मतगणना मंगलवार सुबह 10.30 बजे से होनी थी, लेकिन कुल वोट के आंकड़ों में अंतर आने से विवाद हो गया, ताे प्रत्याशियों ने हंगामा किया था। तब चुनाव पदाधिकारियों ने वोटों का मिलान किया। प्रत्याशी जब पूरी तरह संतुष्ट हुए, ताे दोपहर 3 बजे मतगणना शुरू हुई।

2155 मतदाताओं में से 1793 ने किया था मतदान
इससे पहले सोमवार को पूरे दिन मतदान हुआ था था। सत्र 2021-23 के लिए हुए चुनाव में इस बार रिकॉर्ड 84.64 प्रतिशत वोटिंग हुई थी। 2155 मतदाताओं में से 1793 वोटरों ने अपने मत का प्रयोग किया था। 7 पदाधिकारी पद के लिए 38 और 9 कार्यकारिणी सदस्यों के लिए 40 प्रत्याशी मैदान में थे।

देर रात तक गहमागहमी, प्रत्याशी-समर्थक डटे रहे
सिविल कोर्ट के न्यू बार भवन में मतगणना को लेकर सुबह से देर रात तक गहमागहमी रही। एसोसिएशन के सदस्य पल-पल के रुझान की जानकारी ले रहे थे। समर्थक गिनती समाप्त होने से पूर्व ही जीत-हार का आकलन करते हुए हिप-हिप हुर्रे कह झूम रहे थे।

खबरें और भी हैं...