निवेश ठग या PLFI का इन्वेस्टर, खुलेगा राज!:रांची पुलिस ने निवेश और उसके सहयोगी को 3 दिनों के रिपमांड पर लिया

रांची4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खिलौना वाले हथियार के साथ निवेश ने खिंचवाई थीं तस्वीरें, जिसके जरिए ठगता था। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
खिलौना वाले हथियार के साथ निवेश ने खिंचवाई थीं तस्वीरें, जिसके जरिए ठगता था। (फाइल फोटो)

रांची के धुर्वा का निवेश रांची पुलिस के लिए रोज एक उलझती गुत्थी बनते जा रहा है। जब उसकी गिरफ्तारी हुई उसके पास से 73 लाख रुपए और करोड़ों की अचल संपत्ति बरामद हुआ तब पुलिस ने इसे PLFI का टॉप इन्वेस्टर बताया। हालांकि पुलिसिया पूछताछ में इसने भी खुद को एक ठग ही बताया था।

अब PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप ने भी उसे ठग बता दिया है। साथ ही निवेश से PLFI के किसी कन्केशन को इंकार कर दिया है। अब इस गुत्थी को सुलझाने के लिए रांची पुलिस ने बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल में बंद PLFI उग्रवादी निवेश कुमार और शुभम को पुलिस ने तीन दिनों के रिमांड पर लिया है। अदालत की स्वीकृति के बाद सोमवार की शाम निवेश कुमार और शुभम को जेल से धुर्वा थाना लाया गया, जहां पुलिस ने उससे पूछताछ शुरू कर दी है।

दिनेश गोप ने कहा- भय का माहौल बना रही है पुलिस
PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि गिरफ्तार तीनों लोगों से कोई वास्ता नहीं है। धुर्वा के निवेश पोद्दार से उसका दूर-दूर तक कोई संबंध नहीं है। गिरफ्तार निवेश पोद्दार एक बड़ा ठग है। बेवजह जानबूझकर मिडियाबाजी कर निवेश का संबंध PLFI सुप्रीमो से जोड़ कर भय का माहौल बना रही है।

तीन अन्य लोगों को रिमांड पर लेने की तैयारी
इधर, छह जनवरी को धुर्वा थाना क्षेत्र के आम बगान से गिरफ्तार पीएलएफआइ के तीन सहयोगियों अमीरचंद कुमार, आर्या कुमार और नौ जनवरी को जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र स्थित अपने घर से गिरफ्तार निवेश कुमार के भाई प्रवीण कुमार और पिता सुभाष पासवान को भी पुलिस रिमांड पर लेगी।