पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांची में तालाबों के अतिक्रमण का मामला:झारखंड HC ने सरकार से पूछा- 30 साल पहले रांची में कितने तालाब थे, सरकार ने कहा- जानकारी नहीं है

रांची16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोर्ट ने पूछा है-30 साल पहले रांची में कितने जलाशय थे, उस समय हरियाली कितनी थी
 अभी जलाशयों और हरियाली की क्या स्थिति है। (फाइल) - Dainik Bhaskar
कोर्ट ने पूछा है-30 साल पहले रांची में कितने जलाशय थे, उस समय हरियाली कितनी थी अभी जलाशयों और हरियाली की क्या स्थिति है। (फाइल)
  • HC ने सरकार से पूरी जानकारी जुटाकर 4 मार्च को जवाब दाखिल करने के लिए कहा है
  • मामले में जनहित याचिका दायर करने वाली वकील ने कहा उन्हें परेशान किया जा रहा है

रांची में तालाब और डैम के अतिक्रमण मामले की सुनावई गुरुवार को झारखंड हाईकोर्ट में हुई। चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत ने मामले की सुनवाई करते हुए सरकार से पूछा कि 30 साल पहले रांची में कितने तालाब थे और हरियाली कितनी थी।

सरकार की ओर से जवाब दिया गया कि फिलहाल इसकी सटीक जानकारी नहीं दी जा सकती। रांची नगर निगम के पास साल 1928 का नक्शा है। उस नक्शे को देख कर ही सही जानकारी दी जा सकती है। इसके बाद कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की और कहा कि अदालत में पूरी तैयारी के साथ आएं। सभी तथ्यों की पूरी जानकारी हासिल करने के बाद ही कोर्ट में जवाब दाखिल करें और बताएं। मामले की अगली सुनवाई 4 मार्च को होगी।

नगर निगम के जवाब से संतुष्ट नहीं हुआ कोर्ट
गुरुवार को सुनवाई के दौरान नगर निगम की ओर से बताया गया कि बांधों और तालाबों से अतिक्रमण हटाने और संरक्षित करने का काम जारी है। अतिक्रमण हटाया जा रहा है और लोगों को नोटिस भी दिया गया है। लेकिन इस जवाब से कोर्ट संतुष्ट नहीं हुआ। कहा कि जिन बिंदु्ओं पर नगर निगम से जवाब मांगा गया था उसके अनुसार जवाब नहीं है। निगम ने यह नहीं बताया है कि 30 साल पहले रांची में कितने जलाशय थे। इस पर निगम की ओर से बताया गया कि 30 साल पहले रांची में 14 जलाशय थे और आज भी उतने ही हैं।

वकील को सुरक्षा देने को कोर्ट ने दिया निर्देश
इस मामले की सुनवाई के दौरान जनहित याचिका दायर करने वाली वकील खुशबू कटारूका ने अदालत को बताया कि नगर निगम की ओर से अतिक्रमण हटाने के लिए आम लोगों को जो नोटिस दिया जा रहा है उसमें कहा जा रहा है कि यह नोटिस खुशबू कटारूका की ओर से दायर जनहित याचिका के मामले में दिया जा रहा है। जबकि हाईकोर्ट में कई याचिकाओं पर सुनवाई की जा रही है। नोटिस में सिर्फ उनका नाम अंकित किए जाने से उन्हें काफी परेशानी हो रही है। कई लोग फोन कर रहे हैं इससे वह काफी परेशान है। इस पर अदालत ने रांची जिला प्रशासन ने अधिवक्ता को सुरक्षा प्रदान करने का निर्देश दिया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

और पढ़ें