पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सचिन वर्मा मॉब लिंचिंग मामला:रांची के SSP और DC से राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने पूछा- सचिन को कब, कहां और क्यों गिरफ्तार किया था, उसकी मौत का कारण क्या है

शंभू नाथएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
8 मार्च की रात अपर बाजार के स्थानीय मोटिया मजदूर ने 22 साल के सचिन कुमार वर्मा को पीट-पीट कर अधमरा कर दिया था। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
8 मार्च की रात अपर बाजार के स्थानीय मोटिया मजदूर ने 22 साल के सचिन कुमार वर्मा को पीट-पीट कर अधमरा कर दिया था। (फाइल फोटो)
  • 14 बिंदुओं पर पूछे सवाल, 2 महीने में मांगा जवाब

मोटिया मजदूरों की पिटाई से हुई रांची के सचिन वर्मा की मौत का मामला अब राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग दिल्ली के पास पहुंच गया है। आयोग ने इस मामले की तहकीकात भी शुरू कर दी है। इस संबंध में रांची के SSP और DC से 14 सवालों के जवाब मांगे गए हैं। इसकी रिपोर्ट जमा करने के लिए दो महीने का समय दिया गया है।

आयोग के लॉ डिविजन ने SSP और DC से इस केस की पूरी जानकारी मांगी है, जिसमें यह पूरी तरह से स्पष्ट होना चाहिए कि सचिन की मौत की असली वजह क्या है। साथ ही आयोग की तरफ से पूछा गया है कि सचिन को कब और कहां से गिरफ्तार किया गया था और उसकी गिरफ्तारी का कारण क्या था।

क्या सचिन के परिजनों को दी गई थी गिरफ्तारी की जानकारी
आयोग ने पूछा है कि क्या सचिन के परिजनों को इसकी जानकारी थी कि सचिन को अरेस्ट कर लिया गया है या उसे गिरफ्तार किया जाएगा। सचिन के खिलाफ दर्ज FIR और उसके मेडिकल रिपोर्ट की भी जानकारी आयोग की तरफ से मांगी गई है।

पोस्टमार्टम में किस प्रकार की इंज्यूरी मिली थी
राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने पोस्टमार्टम प्रक्रिया का पूरा वीडियो फुटेज जमा करने के लिए कहा है। साथ ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट को टेक्स्ट फॉर्मेट में मांगा है। इसमें खासकर यह पूछा गया है कि इसमें किस प्रकार की इंज्यूरी सामने आई थी। उन सभी को पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हाईलाइट करके जमा करने के लिए कहा गया है। साथ ही FSL रिपोर्ट के मुताबिक, मौत के मुख्य कारणों की भी जानकारी मांगी गई है।

8 मार्च की रात ट्रक चोरी के आरोप में मोटिया मजदूरों ने की थी पिटाई
8
मार्च की रात अपर बाजार के स्थानीय मोटिया मजदूर ने 22 साल के सचिन कुमार वर्मा को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया था। इतना ही नहीं उसके पूरे शरीर को गर्म लोहे के रॉड से भी दागा गया था। पुलिस उसे भीड़ से बचाकर कोतवाली थाना लाई थी। जहां 9 मार्च को उसकी मौत हो गई थी। सचिन नवाटोली भुताहा तालाब के पास का रहने वाला था। परिवार के दबाव पर 40 लोगों को इस मामले में आरोपी बनाया गया है।

गाड़ी चोरी की झूठी कहानी रचकर सचिन को पकड़ा था
गिरफ्तार आरोपित अखल देव ने पुलिस को बताया था कि सत्येंद्र राय, बिट्टू राय, इंद्रजीत, मंतोष, शिवनाथ, शकील राय समेत अन्य ने 7 मार्च की रात 12 से एक बजे के बीच में गाड़ी चोरी होने की झूठी कहानी गढ़ कर सचिन को नील रतन स्ट्रीट के पास से पकड़ लिया। इसके बाद उसे मंदिर कैंपस में ले गए, जहां रस्सी से बांधकर कमरे में रखा गया और पीटा गया था। पूछताछ में आरोपी ने अपने अन्य साथियों के नामों का भी खुलासा किया है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

और पढ़ें