पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौसम ने ली करवट:1 दिन में 3 डिग्री सेल्सियस गिरा रांची का न्यूनतम पारा, उच्चतम तापमान में भी जारी है गिरावट, 7 अप्रैल तक छाए रहेंगे बादल

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रांची में मंगलवार सुबह से ही आसमान में बादल छाए हुए हैं। ठंडी हवा से मौसम सुहाना हो गया है। - Dainik Bhaskar
रांची में मंगलवार सुबह से ही आसमान में बादल छाए हुए हैं। ठंडी हवा से मौसम सुहाना हो गया है।

रांची समेत झारखंड भर में मौसम ने करवट ली है। सोमवार दोपहर बाद तेज हवाओं के साथ हुई बारिश के बाद लोगों को गर्मी से राहत मिली है। तेजी से बढ़ते पारे में लगातार गिरावट जारी है। 1 दिन में न्यूनतम तापमान में जहां तीन डिग्री सेल्सियस की गिरावट हुई है। वहीं, उच्चतम तापमान में 1.5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई है। मौसम वैज्ञानिक के मुताबिक 7 अप्रैल तक रांची में यह स्थिति बनी रहेगी।

रविवार को रांची का उच्चतम तापमान 36.4 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 23.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। पिछले 24 घंटे में रांची का न्यूनतम तापमान 20.7 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान 35.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक अगले तीन दिनों तक आसमान में बादल छाए रहेंगे। इस दौरान रह-रह कर 40-50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने के साथ बारिश के भी आसार हैं।

रांची में 1 तो जमशेदपुर में 5 मिलीमीटर बारिश हुई
पिछले 24 घंटे में राज्य भर के मौसम की बात करें तो रांची में जहां 1 मिलीमीटर तो जमशेदपुर में 5 मिलीमीटर बारिश हुई है। सबसे कम डाल्टेनगंज में 0.2 मिलीमीटर बारिश हुई है। इस दौरान राज्य भर में सबसे अधिक उच्चतम तापमान 39.4 डिग्री सेल्सियस चाईबासा का दर्ज किया गया है। सबसे कम न्यूनतम तापमान 20.7 डिग्री सेल्सियस रांची का दर्ज किया गया। इसके अलावा जमशेदपुर का अधिकतम तापमान 37.4 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

क्यों बदल रहा है मौसम
मौसम वैज्ञानिक के अनुसार उत्तर प्रदेश के पश्चिमी भाग से लेकर असम तक एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बना हुआ है। यह बिहार होते हुए गुजर रहा है। दक्षिण पूर्वी हवाओं के कारण झारखंड पर भी इसका असर है। मौसम वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने बताया कि झारखंड में अगले पांच दिनों के दौरान मौसम परिवर्तन का सिलसिला जारी रहेगा। इस दौरान गरज और तेज हवा के साथ बारिश और वज्रपात की घटनाएं भी हो सकती है

खबरें और भी हैं...