डीएसपीएमयू में एंट्रेंस टेस्ट:एमसीए में सुमंत व कृष्णा 66% और एमबीए में 64.5% अंक लाकर सलोनी सिंह बनी टॉपर

रांची7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एमसीए में सुमंत व कृष्णा 66 प्रतिशत और एमबीए में 64.5% अंक लाकर सलोनी सिंह टॉपर बनी। - Dainik Bhaskar
एमसीए में सुमंत व कृष्णा 66 प्रतिशत और एमबीए में 64.5% अंक लाकर सलोनी सिंह टॉपर बनी।

डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी (डीएसपीएमयू) के एमसीए और एमबीए कोर्स में एडमिशन के लिए रविवार को एंट्रेंस टेस्ट हुआ। एमसीए का रिजल्ट परीक्षा के महज एक घंटे बाद आ गया। वहीं एमबीए के नतीजे परीक्षा के चार घंटे बाद घोषित कर दिए गए। एमबीए परीक्षा 200 अंकों की हुई। सलोनी सिंह 229 अंक यानी 64.5 प्रतिशत अंक लाकर पहले स्थान पर रहीं।

वहीं प्रियांशु कुमार ने 127 अंक और राजू कुमार ने 125 अंक लाकर क्रमश

दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे। इसी प्रकार एमसीए का एंट्रेंस टेस्ट 200 अंकों का हुआ। इसमें सुमंत महतो और कृष्णा कुमार 66 प्रतिशत अंक लाकर संयुक्त रूप से टॉपर बने। प्रगति कुमारी 64 प्रतिशत अंक लाकर दूसरे स्थान पर रहीं। एमसीए की परीक्षा डॉ. अनिता, परीक्षा नियंत्रक डॉ. आशीष कुमार गुप्ता और एमबीए परीक्षा डॉ. अशोक नाग, केंद्र अधीक्षक डॉ. अनिल कुमार की देखरेख में हुआ।

एमबीए का एडमिशन शिड्यूल

एबीए कोर्स में एडमिशन के लिए 100 छात्रों की सलेक्शन लिस्ट जारी की गई है। चयनित स्टूडेंट्स सोमवार से ऑनलाइन एडमिशन ले सकते हैं। प्रति सेमेस्टर शुल्क 25 हजार रु. लगेगा।

एमसीए का एडमिशन शिड्यूल

एमसीए कोर्स में एडमिशन के लिए 120 छात्रों की सलेक्शन लिस्ट जारी की गई है। डॉ. आईएन साहू ने बताया कि फर्स्ट लिस्ट में चयनित स्टूडेंट्स 23 सितंबर तक एडमिशन ले सकते हैं। शुल्क प्रति सेमेस्टर 25 हजार रु. है।

एमसीए में रीजनिंग के प्रश्न ज्यादा टफ थे

एमसीए में 100 अंकों के सवाल पूछे गए थे। प्रत्येक प्रश्न के लिए दो अंक थे। मैथ में 10, अंग्रेजी में 16, रीजनिंग में 11 और कंप्यूटर एवरनेस में 13 प्रश्न पूछे गए थे। छात्रों ने बताया कि रीजनिंग के प्रश्न अन्य विषयों के अपेक्षा टफ थे। वहीं एमबीए के एंट्रेंस में जीके, अंग्रेजी, मैथ और रीजनिंग से 15-15 सवाल पूछे गए थे, जो 60 अंक के थे।

"एंट्रेंस में अंग्रेजी में निबंध लिखना था, ताकि छात्रों के लिखने की क्षमता पता चलेे। एमबीए के एंट्रेंस में 50% उपस्थिति रही। चयनित छात्रों का एडमिशन सोमवार से होगा।"

-डॉ. अशोक नाग, डायरेक्टर, स्कूल ऑफ मैनेजमेंट