भद्रकाली की पूजा अर्चना:घुज्जीबागी के सन्नी ने मां भद्रकाली मंदिर का हूबहू निर्माण कर की पूजा

इटखोरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भद्रकाली मां का मंदिर - Dainik Bhaskar
भद्रकाली मां का मंदिर

घुज्जीबागी गांव के जयनाथ दांगी के 18 वर्षीय पुत्र सन्नी कुमार ने दीपावली त्यौहार के मौके पर मां भद्रकाली का मुख्य मंदिर मिट्टी से निर्मित कर पूजा-पाठ किया। सन्नी ने भद्रकाली का मुख्य मंदिर हूबहू बनाया जिसकी कला को इटखोरी प्रखंड के लोगों ने लोहा माना।

सन्नी ने बताया कि पिछले 4 दिनों की मेहनत कर हमने मिट्टी और कुछ बांस के छड़ी से मां भद्रकाली मंदिर का हुबहू ढांचा तैयार किए। इसके बाद मंदिर के ही रंग में उसे रंगे और गुंबद का भी काम भद्रकाली मंदिर के जैसा सेम तैयार किए।

जिसमें दीपावली के दिन मां काली के रूप में मां लक्ष्मी व भगवान गणेश की प्रतिमा स्वयं तैयार कर उसमें स्थापित कर पूजन की। जिसे गांव देहात में लोग भुरकुंडा कहते हैं। उल्लेखनीय है कि सन्नी ने दो-तीन साल पूर्व मां भद्रकाली माता की हुबहू प्रतिमा का निर्माण भी किया था

। जिस प्रतिमा को मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्यों और जिले के अधिकारियों ने सराहनीय कला बताकर उस प्रतिमा को अभी भी म्यूजियम में रखे हुए हैं। सन्नी इटखोरी भद्रकाली महाविद्यालय में सेमेस्टर 1 की पढ़ाई कर रहा है।

उसकी कला इटखोरी प्रखंड के लिए एक अलग पहचान है। उसे अगर सरकारी तौर पर सहयोग मिल जाए तो वह कलाकृति की दुनिया में अपनी कला को अलग पहचान दिला सकता है। सन्नी अच्छी पढ़ाई लिखाई के साथ-साथ शुरू से हीं कलाकृति में माहिर है।

खबरें और भी हैं...