कल से नई दर पर जमीन-फ्लैट की रजिस्ट्री:274 गांवाें में कहीं फ्लैट लें, कीमत 2020 रु. प्रति वर्गफीट, पर इस रेट में कहीं फ्लैट नहीं मिलेगा

रांची6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रांची के 1324 मौजा में कल से नई दर पर जमीन-फ्लैट की रजिस्ट्री - Dainik Bhaskar
रांची के 1324 मौजा में कल से नई दर पर जमीन-फ्लैट की रजिस्ट्री

रांची सहित राज्यभर के ग्रामीण क्षेत्रों में एक अगस्त से जमीन-फ्लैट व मकान की खरीद-बिक्री महंगी हो जाएगी। रांची के ग्रामीण क्षेत्रों के 1324 मौजा में जमीन व फ्लैट की सरकारी कीमतों में 10 प्रतिशत और मकान की कीमत में पांच प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की गई है। डीसी सह जिला निबंधक राहुल सिन्हा ने शनिवार को नई दर लागू करने की स्वीकृति दे दी है। अब सोमवार को निबंधन विभाग के सॉफ्टवेयर में नई दर की सूची अपलोड की जाएगी।

इसके बाद मंगलवार से ग्रामीण क्षेत्रों में जमीन-फ्लैट की रजिस्ट्री होगी। हालांकि, प्रशासन ने जमीन-फ्लैट का जो सरकारी वैल्यूएशन तय किया है वह अजीब है। क्योंकि आरआरडीए क्षेत्र के 274 गांवों में आप कहीं भी फ्लैट या कच्चा-पक्का मकान खरीदें, एक जैसी कीमत देनी होगी। क्योंकि, प्रशासन ने सभी गांवों के लिए फ्लैट की कीमत 2020 रुपए प्रति वर्गफीट, पक्का घर की कीमत 1292 रुपए व कच्चा घर की कीमत 809 रुपए प्रति वर्गफीट तय कर दिया है। भास्कर ने जब रांची के 20 गांवों में फ्लैट की कीमत की पड़ताल की तो बिल्डरों ने बताया कि किसी भी गांव में प्रशासन द्वारा तय रेट पर फ्लैट उपलब्ध नहीं है।

रेवेन्यू बढ़ाने के लिए बढ़ता है वैल्यूएशन

सरकारी रेवेन्यू बढ़ाने के लिए प्रत्येक दो वर्ष के अंतराल पर जमीन की कीमत में बढ़ोतरी की जाती है। चंदवे में खाली जमीन की कीमत 1.77 लाख रुपए प्रति डिसमिल हो गई है। पहले 1.59 लाख रुपए प्रति डिसमिल थी। पहले पांच डिसमिल जमीन की रजिस्ट्री पर 55,791 रुपए खर्च हो रहे थे। अब पांच डिसमिल जमीन की रजिस्ट्री कराने पर 61,990 रुपए खर्च होंगे। मतलब जमीन खरीदार पर 6,200 रुपए का बोझ बढ़ेगा। हालांकि, यह बढ़ोत्तरी सिर्फ सरकारी रेवेन्यू बढ़ाने के लिए की जाती है।

खबरें और भी हैं...