• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • The body was put into the furnace by offering a mantra to the minister, in 40 minutes from the LPG in the body panchatatva; Found bones in 20 minutes

मोक्षधाम में भी परंपरा बरकरार / मंत्रोच्चार से मुखाग्नि देकर शव को भट्‌ठी में डाला गया, एलपीजी से 40 मिनट में शरीर पंचतत्व में; 20 मिनट में मिलीं अस्थियां

The body was put into the furnace by offering a mantra to the minister, in 40 minutes from the LPG in the body panchatatva; Found bones in 20 minutes
X
The body was put into the furnace by offering a mantra to the minister, in 40 minutes from the LPG in the body panchatatva; Found bones in 20 minutes

  • कोरोना वायरस की वजह से 12 वर्ष बाद जिंदा हुआ शवदाह गृह
  • दिन-रात एक कर मात्र 20 दिनों के अंदर तैयार हुआ हरमू का मोक्षधाम

दैनिक भास्कर

May 30, 2020, 07:32 AM IST

रांची. हरमू स्थित मोक्षधाम में शुक्रवार को रिम्स में पड़े एक अनक्लेमड शव का दाह संस्कार सफलतापूर्वक हुआ। मारवाड़ी सहायक समिति की ओर से तैयार कराए गए शवदाह गृह में मंत्रोच्चार के साथ शव को मुखाग्नि दी गई। इसके बाद एलपीजी गैस से संचालित भट्टा में शव डाल दिया गया। मात्र 40 मिनट के अंदर शव पूरी तरह जलकर राख बन गया। इसके बाद राख से अस्थियां भी निकाली गईं। इसी के साथ मोक्षधाम में लगाए गए गैस चेंबर का ट्रायल सफल हो गया।

हरमू मोक्षधाम में शव जलाने का ट्रायल सफल होने के बाद अब बड़ा घाघरा में निर्मित शवदाह गृह को भी व्यवस्थित करने की तैयारी शुरू हो गई। डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय ने बताया कि जल्द ही अन्य मुक्तिधाम पर भी गैस संचालित शवदाह गृह बनाने पर काम शुरू होगा। इस मौके पर मेयर आशा लाकड़ा, डिप्टी मेयर, वार्ड 26 के पार्षद अरुण कुमार झा, मारवाड़ी सहायक समिति के अध्यक्ष प्रदीप राजगढ़िया और सुरेश अग्रवाल सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

  • 2200 रुपए अभी मुक्तिधाम में देने पड़ते हैं
  • 1800 रुपए सामान्य परिवार को अब देने होंगे
  • 900 रुपए बीपीएल परिवारों से लिए जाएंगे 

गैस आधारित भट्‌ठी में शव जलाकर किया गया ट्रायल

शवदाह गृह का निर्माण 2008 में हुआ था, लेकिन चालू नहीं किया गया। मशीन भी खराब हो चुकी थी। कोरोना वायरस से होने वाली मौत को देखते हुए डीसी ने नगर निगम को शवदाह गृह का संचालन करने का निर्देश दिया, तब जाकर इसके संचालन की जिम्मेदारी मारवाड़ी सहायक समिति को सौंपी गई। समिति के पदाधिकारियों ने दिन-रात एक कर मात्र 20 दिनों के अंदर मशीन दुरुस्त कराया। जर्जर पड़े शवदाह गृह को पूरी तरह सुसज्जित कर दिया।

अगले माह से शुरू होगा नियमित दाह संस्कार

मारवाड़ी सहायक समिति के अध्यक्ष प्रदीप राजगढ़िया ने बताया कि मोक्षधाम पूरी तरह तैयार है। यहां डीजी सेट लगाने सहित अन्य व्यवस्था बनाने पर काम चल रहा है। प्रशासनिक कार्यालय स्थापित करने और मोबाइल एप्लीकेशन बनाने पर काम चल रहा है। ये काम पूरे होने के बाद अगले माह से नियमित रूप से शवों के दाह संस्कार की सुविधा उपलब्ध होगी। 

आगे क्या... मोक्षधाम में अगले माह से नियमित रूप से दाह संस्कार होगा। अब बड़ा घाघरा घाट पर भी जर्जर हो चुके शवदाह गृह को गैस से संचालित किया जाएगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना