• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • The Court Asked How Many Reserved Candidates Were Selected In The General Category, The Petitioner Told The Court Reservation Was Given In The Preliminary Examination, Which Was Not Mentioned In The Advertisement

सातवीं जेपीएससी:कोर्ट ने पूछा-कितने आरक्षित अभ्यर्थी सामान्य श्रेणी में चुने गए,याचिकाकर्ता ने कोर्ट से कहा- प्रारंभिक परीक्षा में आरक्षण दिया गया, जिसका विज्ञापन में जिक्र नहीं

रांची4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सातवीं जेपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा में आरक्षण दिए जाने के खिलाफ दाखिल एलपीए पर झारखंड हाईकोर्ट में साेमवार काे सुनवाई हुई। चीफ जस्टिस डाॅ. रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ ने सुनवाई के दौरान जेपीएससी से जवाब मांगा है। हाईकोर्ट ने जेपीएससी से पूछा है कि सातवीं जेपीएससी परीक्षा में कितने आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थी सामान्य श्रेणी में सेलेक्ट हुए हैं।

सातवीं जेपीएससी की परीक्षा में कैटेगरी वाइज कितनी सीटें थीं। प्रारंभिक परीक्षा में आरक्षण दिया गया है या नहीं। हाईकोर्ट इन सभी बिंदुओं पर जवाब मांगा है। याचिकाकर्ता के अधिवक्ता ने कोर्ट को बताया कि सातवीं जेपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा में आरक्षण दिया गया है, लेकिन विज्ञापन में इसका जिक्र नहीं किया गया। चीफ जस्टिस डाॅ. रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ में बहस के दौरान उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार ने ऐसी कोई नीति नहीं बनाई है, जिसके तहत प्रारंभिक परीक्षा में आरक्षण का लाभ दिया जा सकता है।

इसके बावजूद प्रारंभिक परीक्षा में आरक्षण का लाभ दिया गया है। सातवीं जेपीएससी परीक्षा में सामान्य कैटेगरी की 114 सीटें थीं। नियम के अनुसार, 15 गुना परिणाम जारी किया जाना चाहिए और सामान्य कैटेगरी में 1710 अभ्यर्थियों का चयन होना चाहिए, लेकिन मात्र 768 सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थियों का ही चयन किया गया है। ऐसा लगता है कि जेपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा में आरक्षण दिया गया है।

खबरें और भी हैं...