• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • The Information Given By The CM About The Preparations Said; There Is No Chaos Anywhere In The State Due To The Steps Taken By The Government.

कोरोना को लेकर पीएम की वीडियो कांफ्रेंसिंग:सीएम ने तैयारियों की दी जानकारी कहा; सरकार के उठाए गए कदमों के कारण राज्य में कहीं भी अव्यवस्था नहीं

रांची6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रधानमंत्री की वीडियो कांफ्रेंसिंग में राज्य के आला अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन। - Dainik Bhaskar
प्रधानमंत्री की वीडियो कांफ्रेंसिंग में राज्य के आला अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन।

कोविड-19 के तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर उत्पन्न हुई चुनौतियों और उससे निपटने की तैयारियों को लेकर पीएम की राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई वीडियो कांफ्रेंसिंग में सीएम हेमंत सोरेन भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की वजह से राज्य में कहीं भी अफरा-तफरी या अव्यवस्था का माहौल नहीं है। वैक्सीनेशन में तेजी लाई गई है।

हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर में बेहतर कार्य हुए हैं।कोरोना जांच का दायरा बढ़ा है। हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को सुदृढ़ करने के साथ बेहतर प्रबंधन से कोविड-19 को काबू में करने का प्रयास किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जिस तरह संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है, उसमें हमें बेहद सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने वैक्सीनेशन को कोरोना से निपटने का सबसे सशक्त हथियार बताया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्यों के सहयोग से एक बार फिर हम कोविड-19 से जीतकर अवश्य निकलेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को सुदृढ़ करने के साथ बेहतर प्रबंधन के जरिए कोविड-19 की पहली और दूसरी लहर को काफी हद तक काबू में किया। उसी तरह तीसरी लहर को नियंत्रित करने के लिए सभी आवश्यक और ठोस कदम उठाए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल- कॉलेज, जिम, पार्क समेत वैसे सभी संस्थान और सार्वजनिक स्थल बंद कर दिए गए हैं, जहां से संक्रमण के फैलने का खतरा ज्यादा है। भीड़ नहीं लगे, इस दिशा में भी अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दे दिए गए हैं।

इसके अलावा कोविड-19 महामारी से बचाव का सबसे अच्छा तरीका सतर्कता और सावधानी बरतना है। लोगों को कोविड-19 दिशा-निर्देशों का पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। वीडियो कांफ्रेंस में मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, सीएम के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे और राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक रमेश घोलप मौजूद थे।

राज्य में 80 प्रतिशत लोगों को पहला टीका लग चुका है
मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने कहा कि राज्य में अब तक 80 प्रतिशत लोगों को पहला टीका लग चुका है। वहीं, दूसरा डोज लेने वालों की संख्या 50 प्रतिशत है। इसके अलावा 15 से 18 वर्ष के लगभग 22 प्रतिशत किशोरों ने टीके की पहली डोज ले ली है। उन्होंने बताया कि राज्य में अब तक 30,000 लोग बूस्टर डोज ले चुके हैं।

सीमावर्ती क्षेत्रों से संक्रमण के ज्यादा मामले आ रहे हैं, इन पर रोक जरूरी
मुख्यमंत्री ने इस बात से भी अवगत कराया कि झारखंड में संक्रमण के ज्यादातर मामले राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों से आ रहे हैं। यहां भी निगरानी के साथ जांच की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित की जानी चाहिए। इनके मूवमेंट पर नजर रखने के लिए व्यापक रणनीति बनाने पर केंद्र और राज्य सरकार मिलकर पहल करें, तभी संक्रमण को नियंत्रित करने में हम सक्षम होंगे।

1100 संक्रमित अस्पताल में भर्ती हैं, इनमें 250 को ही ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी
पहले जहां सामान्य रूप से पूरे राज्य में 30 से 35 हजार सैंपल की जांच होती थी, वहीं आज 80 हजार कोरोना जांच हो रही है। कोरोना के शुरुआती चरण में यहां के अस्पतालों और अन्य स्वास्थ्य केंद्रों में प्लांट लग चुके हैं। ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया कि राज्य में फिलहाल लगभग 31 हजार सक्रिय मामले हैं। करीब 1100 संक्रमित अस्पतालों में भर्ती हैं। इनमें से मात्र 250 मरीजों को ही ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है।

खबरें और भी हैं...