• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • The Target Of 2.86 Lakh Doses Every Day In The State, 45 Thousand More Than 2 Lakh People Are Getting The Second Dose Date In Ranchi.

वैक्सीनेशन की रफ्तार सुस्त:राज्य में हर दिन का लक्ष्य 2.86लाख डोज, 45 हजार रांची में 2 लाख से ज्यादा लोगों का सेकेंड डोज का डेट हो रहा पार

रांची7 महीने पहलेलेखक: अमन मिश्रा
  • कॉपी लिंक
लापरवाही की हद... जांच कराने के लिए जवान ने रोका तो धक्का देकर चले गए - Dainik Bhaskar
लापरवाही की हद... जांच कराने के लिए जवान ने रोका तो धक्का देकर चले गए
  • दूसरी राज्य सरकारों ने दोनों डोज नहीं लेने वालों की ऑफिस में इंट्री व योजनाओं का लाभ रोका

राज्य भर में वैक्सिनेशन की रफ्तार सुस्त है। वैक्सिनेशन शुरू हुए 16 दिसंबर को 11 महीने पूरे हो जाएंगे। 11 महीने से 12 दिन पहले यानी 4 दिसंबर तक झारखंड में पहला डोज 69.71% आबादी को और दूसरा डोज 34.2% को लगा है। राज्य की कुल आबादी 3.47 करोड़ है। 2.41 कराेड़ लोगों को वैक्सीनेट करना है। फिलहाल 1,68,13,951 ने ही पहला डोज लिया है। अब भी 73,07,361 लोग टीके से वंचित हैं।

प्रधानमंत्री ने बीते 3 नवंबर को मुख्यमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वैक्सिनेशन की स्थिति की समीक्षा की थी, तब 30 नवंबर तक 90% आबादी को कवर करना था, जो पूरा नहीं हो सका। अब इसे 30 दिसंबर तक कर दिया है।

राज्य की वर्तमान स्थिति, हर दिन 45 हजार लोगाें को लग रहा पहला डोज

सरकार के अनुसार, रोजाना 2.86 लाख लोगों को फर्स्ट डोज लगाना है। जबकि, राज्य की वर्तमान स्थिति देखें तो मुश्किल से रोजाना 45 हजार लोगों को पहला डोज लग रहा है। न लोग वैक्सिनेशन के लिए रूचि दिखा रहें है और न ही जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग इसके लिए सख्त हो रही है।

दूसरे राज्यों में क्या बनाए गए हैं नियम

  • बिहार : दो दिन पहले राज्य सरकार ने आदेश जारी कर बिना दोनों डोज के सरकारी कार्यालयों में प्रवेश से रोक लगा दी गई है। दुकान खोलने पर भी पाबंदी लगाई गई है।
  • हरियाणा : यहां प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग ने आदेश जारी कर टीका नहीं लेने वालों को सरकारी कार्यालयों में प्रवेश से रोक लगा दी है।
  • दिल्ली : यहां बिना काेविड सर्टिफिकेट दफ्तार आने से ही रोक लगा दी गई है। दफ्तर में सर्टिफिकेट जमा करने के बाद ही प्रवेश मिलेगा।
  • उज्जैन (मध्यप्रदेश) : यहां वैक्सीन का डोज नहीं लेने पर नगर निगम में प्रवेश वर्जित किया गया है। आदेश के अनुसार, डोज नही लेने वालों को राशन देने पर भी रोक लगाई गई है।

पूर्व सीएसआईआर प्रमुख ने चेताया-

नए वैरिएंट ओमिक्रॉन पर बोले
सीएसआईआर के पूर्व प्रमुख डॉ. राकेश मिश्रा के अनुसार, डेल्टा वैरिएंट से ओमिक्रॉन ज्यादा संक्रामक है। यह हल्के लक्षणों के साथ फैलेगा।

वैक्सीन को जरूरी बताया : डॉ. राकेश ने कहा था कि वैक्सीन नए ओमिक्रॉन वैरिएंट पर भी असरदार है। यह शील्ड की तरह काम करेगी।

कोविड-19 व्यवहार पर बाेले - कई लोग हल्के लक्षण या बिना लक्षण के हैं, जो इसे फैला रहे हैं। 70 से 80% लोगों में लक्षण नहीं है और लोगों को यह सामान्य सर्दी-खांसी लग रहा है। इसलिए मास्क और डिस्टेंसिंग जरूरी है।

अपील... बच्चों की खातिर जांच कराएं, रिपोर्ट आने तक आइसोलेट रहें

रांची रेलवे स्टेशन पर रविवार को जांच के लिए जवान ने यात्रियों को रोका तो धक्का देकर निकल गए। डॉ. पीसी झा ने कहा कि लोगों को बच्चों की खातिर जांच करानी चाहिए और रिपोर्ट आने तक आइसोलेट रहना चाहिए। इस तरह की लापरवाही से ही दूसरी लहर आई थी।

खबरें और भी हैं...