सुलभ हो शिक्षा:हर पंचायत से कम दूरी पर हाईस्कूल जरूर हो, विभाग उठाए कदम

रांची15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राजभवन में स्कूली शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों के साथ बैठक करते राज्यपाल रमेश बैस। - Dainik Bhaskar
राजभवन में स्कूली शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों के साथ बैठक करते राज्यपाल रमेश बैस।

राज्यपाल रमेश बैस ने राज्य के स्कूलों में ड्रॉपआउट की समस्या पर नाराजगी जताई है। ड्रॉपआउट कम करने के लिए उन्होंने राज्य सरकार को कदम उठाने की हिदायत दी है। बुधवार को उन्होंने स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के अधिकारियों के साथ राजभवन में बैठक की, जिसमें राज्यपाल के अपर मुख्य सचिव शैलेश कुमार सिंह, स्कूली शिक्षा विभाग के सचिव राजेश कुमार शर्मा सहित कई अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

बैठक में राज्यपाल ने कहा कि बच्चों के लिए मध्य और उच्च विद्यालय को सर्वसुलभ बनाएं। वर्तमान में बच्चों को हाईस्कूल में नामांकन कराने के लिए बहुत दूर जाना पड़ता है। मध्य विद्यालय से उच्च विद्यालय की दूरी बहुत अधिक है। ऐसे में हर पंचायत से कम दूरी पर उच्च विद्यालय स्थापित करना अत्यंत आवश्यक है। राज्यपाल ने राज्य के विभिन्न विद्यालयों को मॉडल स्कूल के रूप में विकसित करने का निर्देश दिया।

उन्होंने विभागीय अधिकारियों से कहा कि जिस बच्चे के अभिभावक शिक्षित नहीं हैं, वे अपने स्कूल का होमवर्क कैसे करें। राज्य में ऐसे शिक्षण संस्थान स्थापित करने की जरूरत है, जहां बच्चों को शिक्षकों के साथ अनुकूलतम वातावरण उपलब्ध हो।

नेतरहाट विद्यालय की समस्याएं दूर करें, पहले जैसा गौरव लौटाएं

गवर्नर ने कहा कि नेतरहाट विद्यालय की कभी पूरे देश में विशिष्ट पहचान थी, लेकिन आज इसकी स्थिति अच्छी नहीं है। उन कारणों को जानना होगा और उनका स्थाई समाधान जल्द करना होगा, जिससे यह पूर्व जैसे गौरव को प्राप्त कर सके। उन्होंने कहा कि यदि कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय की बालिकाएं बेहतर कर रही हैं, तो वहां वर्षों से कार्यरत अतिथि शिक्षकों को हटाने की बातें नहीं होनी चाहिए।

हर पंचायत में आदर्श विद्यालय खोलने की योजना : शिक्षा सचिव
बैठक में स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता सचिव राजेश शर्मा ने कहा कि कोरोना काल का शिक्षा जगत पर व्यापक प्रभाव पड़ा है। उन्होंने शिक्षकों की रिक्तियों को एक अहम समस्या बताया। कहा कि हर पंचायत में आदर्श विद्यालय खोलने की योजना है। साथ ही विभिन्न विद्यालयों में दिव्यांगों की सुविधा हेतु रैम्प निर्माण करने की योजना है।

खबरें और भी हैं...