• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • To Save HEC, A Team Of Non BJP MPs Will Meet The Prime Minister, The Decision Taken In The Meeting Of HEC Bachao Mazdoor Jan Sangharsh Samiti

एचईसी मुख्यालय का घेराव 10 जनवरी को:एचईसी को बचाने के लिए गैर भाजपाई सांसदों का दल प्रधानमंत्री से मिलेगा, एचईसी बचाओ मजदूर जन संघर्ष समिति की बैठक में हुआ निर्णय

रांची12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में बोलते सुबोधकांत सहाय। - Dainik Bhaskar
बैठक में बोलते सुबोधकांत सहाय।
  • राज्यपाल व मुख्यमंत्री को प्रतिनिधिमंडल आज सौंपेगा ज्ञापन

एचईसीकर्मियों के बकाया वेतन भुगतान के संबंध में प्रबंधन ने अब तक कोई ठोस निर्णय नहीं लिया है। इससे आक्रोशित कामगारों ने आंदोलन तेज करने का निर्णय लिया है। इसे लेकर गुरुवार को एचईसी बचाओ मजदूर जनसंघर्ष समिति की महत्वपूर्ण बैठक समिति के मुख्य संरक्षक व पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय के एचईसी परिसर स्थित आवासीय कार्यालय पर हुई। अध्यक्षता खिजरी के विधायक राजेश कच्छप ने की। इसमें सुबोधकांत सहाय ने सभी वामपंथी दलों और गैर भाजपाई राजनीतिक दलों के सांसदों का आह्वान करते हुए कहा कि दिल्ली में एक प्रतिनिधिमंडल एचईसी को बचाने को लेकर प्रधानमंत्री और उद्योग मंत्री से मिलकर वार्ता करें। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कैबिनेट सचिव से एचईसी को बचाने के संबंध में शुक्रवार को वार्ता की जाएगी।

50% क्षमता के साथ होगा काम

एचईस प्रबंधन ने सर्कुलर जारी कर कहा है कि निगम के सभी संयंत्र व कार्यालय की वास्तविक संख्या के कम से कम 50 प्रतिशत के साथ प्रतिदिन चलेंगे। यह प्रावधान कोविड के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए लागू किया गया है। ये तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है।

37वें दिन भी जारी रही स्ट्राइक : कामगारों का टूल डाउन स्ट्राइक गुरुवार को 37वें दिन भी जारी रही। रोज की तरह कामगार अपने-अपने प्लांट में उपस्थिति दर्ज किए और फिर प्रबंधन के खिलाफ रोष जाहिर करते हुए अपने बकाए वेतन की मांग करते हुए नारे लगाए। इन 37 दिनों के टूल-डाउन स्ट्राइक में एचईसी को अबतक करीब 35 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है।

सुबोध कांत हुए दिल्ली रवाना

एचईसी को बचाने के लिए गुरुवार को दिल्ली रवाना हो गए। सहाय दिल्ली में केंद्रीय कैबिनेट सचिव से मिलेंगे। इससे पहले अपने आवासीय कार्यालय में हुई यूनियनों व अन्य संगठनों की बैठक में उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों के कारण एचईसी पर बंदी की तलवार लटक रही है। एशिया प्रसिद्ध कारखाना बचाने के लिए सभी गैर भाजपाई राजनीतिक दलों, सामाजिक संस्थाओं और श्रमिक संगठनों को अब आर-पार की लड़ाई लड़नी होगी

खबरें और भी हैं...