झारखंड लगातार पिछड़ता जा रहा:60 दिनों में 26 लाख युवाओं का ही वैक्सिनेशन, पड़ोसी राज्यों से पिछड़ गया झारखंड

रांची3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • बिहार में 50 लाख, जबकि छत्तीसगढ़ में 30 लाख युवाओं का हुआ वैक्सिनेशन
  • झारखंड में अब तक 26 लाख युवाओं को ही वैक्सीन डोज दिया जा सका

कोरोना से बचाव के लिए वैक्सिनेशन के मामले में झारखंड लगातार पिछड़ता जा रहा है। खासकर युवाओं (18-44 वर्ष) के वैक्सीनेशन में झारखंड अपने पड़ोसी राज्यों में पीछे हैं। बिहार ने जहां इस आयु वर्ग में वैक्सीनेशन के आंकड़े को 50 लाख से अधिक पहुंचा दिया है, वहीं झारखंड में अब तक 26 लाख युवाओं को ही वैक्सीन डोज दिया जा सका है।

पड़ोसी राज्य में छत्तीसगढ़ में 30 लाख युवाओं को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। इसका मुख्य कारण है वैक्सीन की कमी और स्लॉट नहीं मिल पाना। राज्य के 18 से 44 साल के 1.97 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगनी है।

50 लाख का आंकड़ा पूरा करने वाले राज्य

युवाओं के वैक्सीनेशन में देश के 10 राज्यों ने 50 लाख का आंकड़ा छू लिया है। इसमें उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु, बिहार, गुजरात, कर्नाटक और महाराष्ट्र शामिल हैं। वहीं 10 लाख का आंकड़ा पार करने वाले राज्यों में आंध्रप्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, दिल्ली, हरियाणा, केरल, तेलंगाना, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा, पंजाब, झारखंड, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल शामिल हैं।

रोज औसतन 40 से 45 हजार युवाओं काे टीका

राज्य में औसतन 40 से 45 हजार युवाओं का रोज वैक्सिनेशन हो पा रहा है। यही रफ्तार रही, तो इस आयु वर्ग के सभी लोगों के वैक्सिनेशन में कई महीने लगेंगे। दूसरा डोज में भी झारखंड अन्य राज्यों से पीछे है।

खबरें और भी हैं...