रांची में 15वीं मंजिल से छात्रा ने लगाई छलांग:सुसाइड नोट में लिखा- मैं अपनी जिंदगी से ऊब चुकी हूं, कोई अंदर से बोलता है कि मर जाओ

रांची8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
15वीं मंजिल से गिरने के बाद घटनास्थल पर ही विनिता की मौत हो गई थी। - Dainik Bhaskar
15वीं मंजिल से गिरने के बाद घटनास्थल पर ही विनिता की मौत हो गई थी।

रांची के लालपुर चौक स्थित एसजी एक्जोटिक बिल्डिंग की 15वीं मंजिल से कूद कर 18 वर्षीय छात्रा विनिता ने गुरुवार को अपनी जान दे दी। परिजनों ने जहां इसे हत्या मान कर संदिग्ध व्यक्तियों के खिलाफ धारा 302 के तहत मामला दर्ज कराया है। पुलिस इसे आत्महत्या मान रही है।

इस बीच विनिता के बैग से एक सुसाइड नोट मिला है। इसमें लिखा है- 'हम क्या हैं ये मेरा भगवान जानता है। हमको अपने भगवान के पास जाना है। मेरा दिमाग मेरा साथ नहीं दे रहा है और चीजों को क्रिएट कर रहे हैं जो नहीं है, वो भी। और हम कुछ भी बोल रहे हैं। मम्मी और पापा सॉरी। हम चाहते हैं पढ़ना, लेकिन मेरा दिमाग मेरा साथ नहीं दे रहा है। कोई अंदर से बोलता है कि मर जाओ।'

CCTV फुटेज में साफ दिख रहा है कि वो सीढ़ी से छत की ओर बढ़ रही है और गार्ड सोया हुआ है।
CCTV फुटेज में साफ दिख रहा है कि वो सीढ़ी से छत की ओर बढ़ रही है और गार्ड सोया हुआ है।

परिजनों का आरोप- कुछ गलत हुआ है
विनिता के पिता विनोद महतो रिम्स के पैथोलॉजी डिपार्टमेंट में फोर्थ ग्रेड कर्मचारी हैं। उनका कहना है कि बेटी के साथ कुल गलत हुआ है। उसको किसी ने ऊपर से फेंक दिया। मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

इंस्पेक्टर ने कहा- बगल की बिल्डिंग से एक व्यक्ति ने कूदते देखा
लालपुर इंस्पेक्टर ने कहा कि सुसाइड नोट पढ़कर मामला खुदकुशी का लगता है। वहीं, बगल की बिल्डिंग से एक व्यक्ति ने छात्रा को कूदते देखा है, जिसका बयान दर्ज किया गया है। हालांकि, परिजनों की शिकायत के आधार पर 302 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

25 सितंबर को ही विनिता अपने परिजनों के साथ वैष्णो देवी और गोल्डन टैंपल घूम कर आई थी।
25 सितंबर को ही विनिता अपने परिजनों के साथ वैष्णो देवी और गोल्डन टैंपल घूम कर आई थी।

फॉर्म भरने के लिए घर से निकली थी
विनिता के बड़े भाई विनय का कहना है कि वह स्कॉलरशिप का फॉर्म भरने के लिए निकली थी। घर में सभी को यही पता था कि वह कॉलेज गई है। अचानक उसकी मौत की खबर से पूरा परिवार सदमे में है। ​वह संत जेवियर्स कॉलेज में सोशियोलॉजी से BA ऑनर्स की छात्रा थी। विनिता ने संत अन्ना स्कूल से 10वीं की परीक्षा 91% अंक के साथ उत्तीर्ण की थी, मैथ में 100 में 100 नंबर मिले थे। संत जेवियर्स कॉलेज से 12वीं साइंस की परीक्षा 87% अंक के साथ पास की थी। कॉलेज के रिकॉर्ड के अनुसार वह नियमित ऑनलाइन क्लास ले रही थी।

बिल्डिंग की सुरक्षा की खुली पोल
विनिता की मौत ने बिल्डिंग की सुरक्षा व्यवस्था की भी पोल खोल दी है। CCTV फुटेज में साफ दिख रहा है कि जब वह बिल्डिंग की सीढ़ी की तरफ बढ़ रही थी तब तैनात सुरक्षागार्ड सोया हुआ था। वह सीढ़ियों से चढ़कर 15वीं मंजिल तक गई थी।

सुसाइड नोट से रीकरेंट सुसाइडल थॉट का मामला लगता है: डॉक्टर
​​​​​​
डॉ. निशांत गोयल ने मिले नोट्स को पूरी तरह से देखा और समझा। उनका कहना है कि ऐसी स्थिति को रीकरेंट सुसाइडल थॉट कहते हैं। सुसाइड नोट्स से यह लगता है कि उसके दिमाग में यह बात काफी पहले से आ रही थी। उसकी समस्या को परिवार वाले समझ नहीं सके। अगर समय पर इसकी पहचान कर ली गई होती तो उसे रोका जा सकता था।

मात्र 1.45 घंटे में हुआ सब कुछ

  • 2 बजे घर से यह बोलकर निकली कि कॉलेज में उसे फॉर्म भरना है।
  • 3.03 मिनट में प्रवेश करती है तब गार्ड सो रहा था।
  • लगभग 3.35 मिनट पर 15वें मंजिल से गिरकर मौत हो गई।

ये हैं कुछ अनसुलझे सवाल

  • जब विनिता कॉलेज के लिए निकली थी तब वह लालपुर के अपार्टमेंट में कैसे पहुंच गई?
  • शुरुआती जांच के मुताबिक बिल्डिंग में 5 गार्ड थे, किसी ने उसे रोका क्यों नहीं?
  • क्या किसी भी अपार्टमेंट में कोई आसानी से 15वें तल्ले पर बिना रोक-टोक के पहुंच सकता है?
  • जब मजदूर ने दूसरी बिल्डिंग से उसे कूदते हुए देखा तो उसे बचाने की कोई कोशिश क्यों नहीं की?
खबरें और भी हैं...