आत्महत्या / पत्नी वट सावित्री की पूजा कर मांग रही थी अखंड सुहाग , इधर पति ने फांसी लगा दे दी जान

X

  • भंडार में परिजनों ने बताया-रंजन दुबे की मानसिक तनाव की चल रही थी दवा

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:12 AM IST

विश्रामपुर. प्रखंड अंतर्गत भंडार ग्राम निवासी मिथिलेश रंजन दुबे (35)ने शुक्रवार सुबह फांसी पर लटक जान दे दी। उनकी धर्मपत्नी महिला व्रतियों के साथ पति की लंबी उम्र की कामना का  वट सावित्री पूजा के लिए घर से निकली हुई थी। इधर सूने घर में छोटे बच्चे के अलावा अकेले बच गए मिथिलेश रंजन दुबे ने अपने शयन कक्ष के कमरे में अलमीरा व टेबल  के सहारे सीलिंग से नायलॉन की रस्सी का फंदा बनाकर गले में बांधकर लटक गया। थोड़ी ही देर में परिजनों को इस घटना की जानकारी मिल गई।इधर सुहाग उजड़ने की पहाड़ जैसी विपदा  की  खबर मृतक की व्रती पत्नी को मिलते ही वह अचेत हो गिर गई । देखते ही देखते उनका सब कुछ तबाह हो गया था।सबसे बड़ा दुःख पत्नी व दोनों बच्चे व मृतक के माता-पिता को था। लेकिन वट सावित्री व्रत के दिन हुई इस बड़ी विपत्ति से  पूरे इलाके के लोग सदमे में हैं।
इधर घटना  की सूचना पाकर मौके पर पहुंचे विश्रामपुर थाना प्रभारी श्रीभगवान सिंह ने इस बाबत बताया कि  परिजनों ने मृतक के मानसिक तनाव का पूर्व से चल रहे इलाज की जानकारी दी है। पूरी घटना की जांच गहराई से किये जाने की बात कही। वहीं मृतक के शव को अंत्यपरीक्षण के लिए सदर अस्पताल मेदिनीनगर भेज दिया गया है। मृतक के पिता उषा रंजन दुबे मूलरूप से गढ़वा जिले के चोका गांव के मूल निवासी व डीलर हैं। साथ ही वह सूबे के पूर्व काबीना मंत्री ददई दुबे के सगे परिजन हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना