जच्चा-बच्चा की मौत:प्रसव के दौरान निजी नर्सिंग होम में जच्चा-बच्चा की मौत

पिपराएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

थाना क्षेत्र के एक निजी नर्सिंग होम में जच्चा-बच्चा की मौत के बाद परिजनों ने जमकर हंगामा किया। सूचना पर पुलिस भी आयी, लेकिन कार्रवाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति कर चली गई। मृतका सहित उनके परिजनों को हॉस्पिटल के एम्बुलेंस से घर भी भेज दिया गया। अस्पताल परिसर में रोते-बिलखते परिजन रंजन देवी (मृतका की ननद) ने बताई कि किशनपुर थाना क्षेत्र के छत्तोपट्टी गांव निवासी उनके भाई गजेंद्र कामत की पत्नी किरण देवी (25 वर्ष) को प्रसव पीड़ा होने पर शनिवार को हॉस्पिटल लाया गया। उन्होंने बताया कि स्थानीय आशा नूतन देवी उसे यहां लेकर आईं थी। भर्ती होने के बाद शनिवार की संध्या हॉस्पिटल के संचालक ने बताया कि पेशेंट को खून चढ़ाना पड़ेगा। इसके लिए 16 हजार रुपए जमा कराए। रविवार की देर रात्रि उनलोगों को बताया गया कि प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा दोनों की मौत हो गई। परिजनों के मुताबिक संचालक मौके से फरार हो गए। रंजन देवी बोलीं कि मृतका को दो साल का एक लड़का भी है। इधर, थानाध्यक्ष संतोष कुमार निराला ने बताया कि इस मामले को लेकर कोई आवेदन नहीं मिला है। आवेदन मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। नर्सिंग होम संचालक ने कहा कि मरीज का 8 माह से चल रहा था। गंभीर स्थिति में रात में आई। उसे तुरंत रेफर कर दिया गया। ले जाने के क्रम में उसकी मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...