खुशखबरी:सदर अस्पताल के पीएसए प्लांट से ऑक्सीजन उत्पादन शुरू, अब नहीं होगी कमी

रामगढ़2 महीने पहलेलेखक: शंकर कुमार देवघरिया
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल का ऑक्सीजन प्लांट। - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल का ऑक्सीजन प्लांट।
  • सिविल सर्जन ने कहा- पचास बेड से ज्यादा मरीजों की क्षमता वाले निजी अस्पतालों में भी होगी पीएसए प्लांट की स्थापना

जिले के सदर अस्पताल में छह घंटे के ड्राई रन के बाद पीएसए प्लांट से ऑक्सीजन का उत्पादन आरंभ हो गया है। सिविल सर्जन डॉ. प्रभात कुमार, डीएस डॉ. उदय शंकर श्रीवास्तव की उपस्थिति में 600 लीटर ऑक्सीजन उत्पादन के साथ प्लांट को स्वास्थ्य विभाग की ओर से हरी झंडी मिल गई है। संभावित थर्ड वेव को देखते हुए रामगढ़ जिले के सदर अस्पताल, टाटा हॉस्पीटल घाटो और सीसीएल नयीसराई अस्पताल पीएसए प्लांट आरंभ हो गया है। जबकि ट्रॉमा सेंटर में पीएसए प्लांट का निर्माण कार्य चल रहा है।

अब ऑक्सीजन के मामले में रामगढ़ जिला पूरी तरह आत्मनिर्भर बन गया है। अब ऑक्सीजन की कमी से किसी भी कोरोना संक्रमित या मरीज की मौत नहीं होगी। डीपीएम देवेंद्र भूषण श्रीवास्तव ने बताया कि पीएम केयर फंड से जिले के सदर अस्पताल में 500 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन का उत्पादन होगा। प्लांट के लिए डिर्पाटमेंट ऑफ रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन पुणे से मशीन मंगाई गई है।

तीसरी लहर से निपटने के लिए विभाग सजग : सिविल सर्जन
सीएस डॉ. प्रभात कुमार ने बताया कि जिले में चार पीएसए प्लांट से लगभग तीन हजार एलपीएम ऑक्सीजन के उत्पादन आरंभ होने के बाद अब मरीजों को ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी। तीसरे लहर से निबटने के लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह सर्तक है। जिले में 50 बेड से ज्यादा मरीजों की क्षमता वाले निजी अस्पतालों में भी पीएसए प्लांट लगेगा। पीएसए प्लांट से अब महिला-पुरुष वार्ड के साथ एसएनसीयू तक पाइपलाइन से ऑक्सीजन आपूर्ति होगी।

ऑक्सीजन प्लांट के लिए दो स्वास्थ्यकर्मी प्रशिक्षित किए गए

स्टेट से मैन पावर नहीं भेजे जाने के कारण दो स्वास्थ्यकर्मियों को पीएसए प्लांट चलाने का प्रशिक्षण दिया गया है। जिसमें ऑडियालॉजिस्ट उमेश और एमपीडब्लू संजय कुमार को ऑक्सीजन उत्पादन का प्रशिक्षण दिया गया है। जिससे सदर अस्पताल में मरीजों के लिए ऑक्सीजन की किल्लत ना हो। संभावित तीसरी वेव से निपटने के लिए यह तैयारी की जा रही है। क्योंकि दूसरी वेव में ऑक्सीजन की कमी के कारण कई लोगों ने अपनों को खो दिया था।

ट्रॉमा सेंटर में 800 एलपीएम का पीएसए प्लांट बन रहा है
ट्रॉमा सेंटर में पीएटीएच ऑर्गेनाइजेशन के सहयोग से 800 एलपीएम क्षमता वाले पीएसए प्लांट का निर्माण किया जा रहा है। सीसीएल के सीएसआर मद से केंद्रीय चिकित्सालय नयीसराई अस्पताल में एक हजार लीटर प्रति मिनट की क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट बनकर पूरी तरह तैयार है। वहीं टाटा हॉस्पीटल घाटो में 833 एलपीएम के ऑक्सीजन प्लांट चालू कर दिया गया है। जिले में चार ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना के बाद अब ऑक्सीजन के मामले में रामगढ़ जिला पूरी तरह आत्मनिर्भर बन गया है।

खबरें और भी हैं...