पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुआवजे की मांग:जेओसीपी खदान में चाल धंसने से दंपती की माैत के 16 घंटे बाद उठने दिया शव

घाटोटांड़5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दंपती के शव को जमीन पर रख धरना देते आसपास के ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
दंपती के शव को जमीन पर रख धरना देते आसपास के ग्रामीण।
  • मुआवजे की मांग काे लेकर ग्रामीणों ने शव उठाने से राेका, आश्वासन के बाद माने

झारखंड ओपन कास्ट खदान में रविवार की रात नौ बजे चाल धंसने से दंपती की माैत के सोलह घंटे बाद सोमवार को दोपहर एक बजे दंपती का शव उठा। वेस्ट बोकारो पुलिस ने दोनों शव को पोस्टमार्टम के लिए रामगढ़ भेज दिया है।

पुलिस घटना के कुछ घंटे बाद स्थल पर पहुंच कर सीसीएल प्रबंधन से शव उठाने के लिए खदान में घुसने की अनुमति मांग रही थी, लेकिन प्रबंधन की तरह से कोई पहल नहीं होने पर पुलिस रात भर खदान के ऊपरी सतह पर बैठकर सीसीएल के अधिकारियों का इंतजार करते रही।

सुबह मृतक अनिल रविदास और इसकी पत्नी अंजली देवी के चाचा और मां स्थानीय लोगों के साथ घटना स्थल पर पहुंचे। जिसके बाद अधिकारियों के सहमति के बाद पुलिस शव को उठाने के लिए दो सौ फीट नीचे गहरे खदान में उतरे। पुलिस स्थानीय लोगों की मदद से दोनों शव को दो अलग अलग बेडशीट में रख टांगकर खदान के ऊपर चढ़ने लगे। रास्ता न रहने की वजह से शव को ऊपर लाने में बड़ी मुश्किल का सामना करना पड़ा।

बच्चों की पढ़ाई के लिए मदद का आश्वासन : इस दाैरान मृतक के चाचा, मां और स्थानीय लोगों ने सीसीएल से मुआवजा की मांग कर धरने पर बैठ गए। पुलिस को शव ले जाने से मना कर दिया। वहीं दोपहर को स्थानीय लोगों ने सीसीएल प्रबंधन से आपसी सहयोग कर आर्थिक और शैक्षणिक सुविधा दिलाने का आश्वासन दिया। मौके पर मदन महतो, विश्वनाथ महतो, धनेश्वर महतो, बसंत महतो, रमेश रवि, कमल रवि, निर्मल महतो, गोविंद महतो, बल्कु राम आदि शामिल थे।

सुरंगनुमा खदान से हाे रहा था अवैध खनन

सीसीएल ने लइयो नौ नम्बर के समीप वाले ओपन कास्ट खदान फेज से डिपार्टमेंटल कोयला उत्पादन पूरी कर उसे तीन महीने पूर्व बंद कर दिया। जिसके बाद ग्रामीणों ने सुरंगनुमा खदान बनाना शुरू कर दिया।

बच्चाें के सिर से उठ गया माता-पिता का साया

अनिल और अंजली दोनों पति पत्नी थे। इन्होंने शादी के बाद एक साथ जीने मरने की कसमें खाई थी। दोनों का हंसता खिलखिलाता जीवन तीन छोटे छोटे बच्चों के साथ गुजर रहा था। गरीबी और भूख की आग के सामने दोनों बेवस पति पत्नी अपने बेटे मिलन कुमार (12) पूजा (6) और परी (4) बेटियों के लालन पालन के लिए कोयला की चोरी की लत पकड़ ली।

लेकिन इन्हें मालूम तक नही था कि यह काम एक दिन दोनों की जिंदगी पर भारी पड़ जाएगी। रविवार की रात दोनों की जिंदगी एक साथ कोयले की ढेर में दब कर खत्म हो गई। तीनों छोटे बच्चों के सिर से माता पिता का साया हमेशा के लिए उठ गया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें