ठगी की वारदात:छतरपुर में आंगनबाड़ी सेविका से 36 हजार रुपए की हुई ठगी

छतरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एनएच-98 पर वन विभाग कार्यालय के गेट के पास सोमवार की देर शाम सेविका-सहायिका को कागज का नोट थमा कर 36 हजार रुपए की ठगी कर ली गयी । इस बावबत भुक्तभोगी ने पुलिस को सूचना दी है। जानकारी के अनुसार छतरपुर प्रखंड के चोरडंडा आंगनबाड़ी केंद्र की सेविका रुक्मणी देवी (पत्नी राजदेव राम) सहायिका के साथ छतरपुर एसबीआई से सोमवार को 36 हजार रुपये आंगनबाड़ी के पोषाहार खरीदने के लिए निकासी की थी।

दोनों महिलाएं बैंक से निकलकर वन विभाग कार्यालय के गेट के समीप किसी परिचित से बात कर रही थीं । इसी दौरान दो युवक वहां आये और महिला से कहा कि उसके पास तीन लाख रूपये के छोटे नोट है । जो कपड़े में रखा है । एक व्यक्ति को बड़े नोट में 40 हजार देने हैं। वे उनके तीन लाख में से 40 हजार खुदरा पैसे निकाल ले और बड़े नोट उन्हें दे दें। वे उस व्यक्ति को पैसे देने के बाद आकर अपने बचे पैसे ले लेंगे।

सेविका युवकों के झांसे में आ गयी। उसे लगा कि 36 हजार के बदले उसके पास 3 लाख के खुदरा नोट आ जाएंगे । कपड़े में लिपटे कागज के नोट हूबहू असली रुपए की बंडल के तरह थे। कपड़े के अंदर से उसे पकड़ने पर यह पता नहीं चलता था कि वे कागज के हैं। युवकों ने कपड़ा में लपेट कर रखे कागज के रुपए सेविका को थमा दिए और उसके पास से 36 हजार रुपए दूसरे को देने के बहाने लेकर निकल गए। महिला जब कपड़े को खोली तो कागज के नोट देखकर सन्न रह गयी। महिला को अपने किए पर काफी पछतावा हो रहा है।

खबरें और भी हैं...