पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्राइवेट स्कूल:सरकारी विद्यालयों का स्तर गिराने में सरकार दोषी : फिरनाथ बड़ाइक

सिमडेगा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पारा शिक्षकों ने वित्त सह खाद्य आपूर्ति मंत्री रामेश्वर उरांव पर सरकारी स्कूलों के संबंध में विवादित बयान देने का आरोप लगाया है। संघ के महासचिव फिरनाथ बड़ाईक ने कहा कि वे प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रन वेलफेयर एसोसिएशन (पासवा)द्वारा आयोजित सभा में बोल रहे थे। कहा कि बतौर वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव का कथन कि सरकारी विद्यालय में पढ़ाई का माहौल नहीं है और अगर प्राइवेट स्कूल न होते तो झारखंड में शिक्षा का स्तर न होता, काफी दुर्भाग्यपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि सरकारी विद्यालयों का स्तर गिराने में सरकार का बहुत बड़ा हाथ है। अगर प्राइवेट स्कूल की तुलना करते हैं तो सरकार सारी संसाधन प्राइवेट स्कूल के तर्ज पर उपलब्ध कराएं। जनगणना, पशुगणना, आर्थिक गणना, चुनाव कार्य, बीएलओ, एमडीएम संचालन, पुस्तक वितरण, चावल वितरण, खाता खोलना, राशन वितरण में मजिस्ट्रेट ड्यूटी, कोरोना ड्यूटी, अंतरराज्यीय सीमा पर मजिस्ट्रेट ड्यूटी, विद्यालय के क्लर्क का सभी काम, ये सभी काम कौन करता है, इसे भी मंत्री को नहीं भूलना चाहिए।

उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूल के शिक्षक कक्षा संचालन के अतिरिक्त कोई गैर शैक्षणिक कार्य नहीं करते और पर्याप्त मात्रा में विषयवार और कक्षावार शिक्षक होते हैं। सरकार सभी संसाधन उपलब्ध कराए, सभी पदों पर शिक्षक हों तब पता चलेगा कि बेहतर कौन है।

खबरें और भी हैं...