सहराई पर्व पर हुआ गौ-पूजन:पारंपरिक रीति-रिवाजों के साथ मनाया सोहराई पर्व

सिमडेगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गाय को भोजन कराती महिला - Dainik Bhaskar
गाय को भोजन कराती महिला

| जिले में साेहराई का पर्व आस्था के साथ मनाया गया। इस माैके पर पारंपरिक तरीके से पूजा अर्चना की गई। बताया गया कि दीपावली की सुबह को गाय की पूजा की जाती है। इस माैके पर घर के आंगन में गाय के स्वागत के लिए चावल के आटे से रंगोली बनाया गया एवं गाजे बाजे के साथ गाय के जो चरवाहे उसे आंगन में लाए। इसके बाद घर की मालकिन द्वारा गाय की पूजा की गई। उसके बाद चरवाहा गाय तथा जिस डंडे से गाय की देखरेख की जाती है उस डंडे को भी पूजा की जाती है। चरवाहा के पूजन के बाद उसे नया कपड़ा और कुछ द्रव्य दी जाती है। सभी पशुओं को नहलाने के बाद घर के सदस्यों के द्वारा पशुओं के सर और सिंघ में तेल,सिंदूर लगाकर माला इत्यादि पहनाकर सजाया गया।

खबरें और भी हैं...