पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नेटवर्क फेल:सिमडेगा के इस गांव में टावर नहीं, तीन गांव के लोगों को राशन लेने से पहले चढ़ना होता है पहाड़, तब लेते हैं राशन

सिमडेगा2 महीने पहलेलेखक: दिनेश साहू
  • कॉपी लिंक
8 किमी दूर पहाड़ी पर पॉश मशीन में अंगूठा लगाते हैं ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
8 किमी दूर पहाड़ी पर पॉश मशीन में अंगूठा लगाते हैं ग्रामीण।

ये है जलडेगा का तेटमदा गांव, यहां राशन लेना है तो पहले पहाड़ पर चढ़ना पड़ेगा। वह भी 8 किमी पैदल चलकर। दरअसल, पीडीएस राशन लेने के लिए कार्डधारी ग्रामीणों काे पॉश मशीन पर अंगूठा लगाना होता है। गांव में मोबाइल टावर नहीं है। इससे नेटवर्क काम नहीं करता। जून का राशन लेने के लिए डोवकोना, तोयोरदा और तेटमदा गांव के लोग कोरोना की परवाह किए बगैर बिना मास्क लगा पहाड़ी पर जमा हुए हैं।

हर महीने चढ़ना पड़ता है पहाड़
डोवकोना, तोयोरदा और तेटमदा के ग्रामीणों को पीडीएस डीलर सिबलन की दुकान से राशन लेते हैं। अंगूठा सत्यापन के लिए डीलर उन्हें तोयोरदा गांव से 8 किमी दूर जलडेगा के विलियम चौक पर पहाड़ी पर ले गया। वहां अंगूठा लगाने के बाद सभी गांव लौटे और राशन का उठाव किया। ग्रामीणों के अनुसार, हर महीने उन्हें इसी तरह पहाड़ चढ़ना होता है। नेटवर्क काम नहीं करने पर कभी-कभी दो से तीन दिन लग जाते हैं।

खबरें और भी हैं...