प्रदर्शन / विभाजन व श्रम कानून में बदलाव का विरोध

X

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:00 AM IST

टंडवा. कोल इंडिया लिमिटेड का विभाजन, निजीकरण व श्रम कानूनों में बेरहम बदलावों के खिलाफ संयुक्त ट्रेड यूनियन मोर्चा ने शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन किया। सीसीएल के मगध-आम्रपाली महाप्रबंधक कार्यालय के समक्ष संयुक्त ट्रेड यूनियन के बैनर तले आयोजित विरोध प्रदर्शन मे शामिल वर्करों ने केंद्र सरकार से कोल इंडिया के विभाजन, निजीकरण व श्रम कानूनों में बदलावों के फैसले को वापस लेने की मांग करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। एटक नेता विजय बेदिया ने कहा कि केंद्र और कई राज्य सरकार मजदूरों के अधिकारों का हनन करने को आमादा है। कोरोना का भय दिखाकर कर सरकार मनमानी कर रही है। सरकार पब्लिक सेक्टरों को बड़े पैमाने पर निजीकरण कर रही हैं। लोक डाउन के दौरान कल कारखाने बंद होने से लाखों मजदूर बेकार हो गए। महामारी के आड़ में केंद्र सरकार सरकारी उधोगों वह उपकरणों को निजी कंपनियों के हाथों बेचने एवं श्रम कानूनों को समाप्त करने का काम कर रही है। जिससे किसी भी कीमत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। साथ ही कहा कि साेशल डिस्टेंस का पालन करते हुए विरोध किया। इस दौरान एटक नेता वेदिया ने अपनी मांगो को लेकर पीएम के नाम ‌मगध-आम्रपाली महाप्रबंधक को मांग पत्र सौंपा। एटक अध्यक्ष विश्वनाथ महतो, बिनोद बिहारी पासवान, आरसीएमएस सचिव जेया आलम, आरकेएमयू सचिव जहूर मियां, एजेकेएसएस, अध्यक्ष संतोष विश्वकर्मा, धुर्व लोकप्रिय, राजेश उरांव, प्रेम चंद महतो, शंकर तूरी, रोहित, संतोष पासवान, सतेंद्र टाना भगत शामिल थे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना