पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रेरणा:टाटीझरिया का संजय वैज्ञानिक बनने की राह में, अमेरिका की उड़ान करेगा

टाटीझरियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अपने ननिहाल टाटीझरिया में रहकर संजय ने प्रारंभिक से एमएससी तक की पढाई पूरी की

यदि आपके पास जीवन के संघर्षों से जूझने का माद्दा है, तो फिर सपने आपके कदम चूमते हैं। ऐसी उपलब्धियां दूसरों को भी सपने देखने और उसे साकार करने की प्रेरणा देती हैं। कुछ ऐसी ही कहानी है संजय यादव (28 वर्ष) पिता स्व लालकिशोर यादव की। अपने कड़े संघर्ष और परिश्रम के बदौलत रिसर्च के लिए वह अमेरिका का उडान भरने वाला है। संजय इस समय सीएसआईआर इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी हैदराबाद से केमिकल साइंस विषय पर शोध (पीएचडी) कर रहा है।

अपने ननिहाल टाटीझरिया में रहकर संजय ने प्रारंभिक से एमएससी तक की पढाई पूरी की है। क्रिएटिव हाई स्कूल डहरभंगा-टाटीझरिया से मैट्रिक के बाद संजय संत कोलंबस कॉलेज से बीएसएसी (रसायन) में विनोबा भावे विश्वविद्यालय हजारीबाग का टॉपर बना। इसके बाद फेलोशिप यूनिवर्सिटी रैंक होल्डर स्कॉलरशिप के तहत विभावि से एमएससी की अपनी पढाई पूरी की। इसके बाद 2017 में कॉंसिल फॉर साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च नेट जेआरएफ क्लियर किया। साथ ही गेट की परीक्षा में भी सफलता अर्जित किया। हैदराबाद में रिसर्च के दौरान ऑर्गेनिक सिंथेसिस में इसकी दो अंतर्राष्ट्रीय जरनल भी प्रकाशित हो चुकी है। संजय ने बताया कि वह रिसर्च के लिए अमेरिका जाने वाला है। जहां वह अपना सपना पूरा करेगा। अपने तीन भाईयों में सबसे बडा संजय मूल रूप से बनासो का रहने वाला है। उसने बताया कि दृढसंकल्पित होकर धैर्य के साथ लक्ष्य की ओर बढऩे से वह जरूर पूरा होता है। कम संसाधन में भी व्यक्ति मुकाम हासिल कर सकता है।

खबरें और भी हैं...