पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

हमला:हाथी के सूंड से फट गया था पेट, बचाने के लिए आई पत्नी को हाथी ने उठाकर पटका

ठेठईटांगर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मौत को मात देकर लौटे ग्रामीण ने बताई हाथियों के झुंड के हमले की कहानी

हाथी के हमले से गंभीर रूप से घायल कहुपानी निवासी ओमी लोहरा मौत से जंग जीतकर घर लौट आया है। हाथी का दांत घुस जाने के कारण उसका पेट फट गया था। रिम्स के डॉक्टरों के प्रयास से उसकी जान बच गई और शुक्रवार की रात अस्पताल से छुट्टी मिलने पर घर पहुंच गया। राजाबासा पंचायत की मुखिया ग्लोरिया समद ने बताया कि ओमी लोहरा को इलाज के लिए सिर्फ 10 हजार 400 रुपया मिला है। अभी उसे लंबे समय तक इलाज की जरूरत पड़ेगी। इधर ओमी लोहरा ने बताया कि जब हाथी ने उसे सूंड से उसे उठाया तो उसका बायां दांत मेरे पेट में घुस गया।

यह देख रही मेरी पत्नी फुलमनी लोहराइन मुझे बचाने के लिए दौड़ी और हाथी के पास पहुंच कर शोर करने लगी। इस पर हाथी ने मुझे छोड़कर उसे उठाकर पटक दिया। इससे घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई। गौरतलब है कि घटना वाली रात ठेठईटांगर की उप प्रमुख जॉर्जीना समद और उसके पति भी हाथियों की चपेट में आने से बाल बाल बचे थे। वे भी उसी रास्ते से जा रहे थे और अंधेरे में उनसे आगे एक साइकिल सवार हाथी से टकराते टकराते बचा और गिर गया था। वह जान बचाकर भागा। पति के साथ मोटरसाइकिल में उपप्रमुख जॉर्जीना समद राजाबासा गांव लौट रही थी। साइकिल वाले को भागते हुए देखा और पूछा था कि क्या हुआ। मगर वह बदहवास भागा। तभी उन्हें आगे में कई हाथी सड़क पर दिखे। वे मोटरसाइकिल घुमा कर भागे। बताया जाता है कि प्रखंड मुख्यालय से 4 किमी दूर रानी बांध जंगल में हाथियों ने डेरा डाल रखा है। करीब 25 की संख्या में हाथी दो दल में बंटे हैं। इधर महिला की मौत के बाद वन विभाग ने ग्रामीणों को मशाल का सामान और तेल आदि दिया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप सभी कार्यों को बेहतरीन तरीके से पूरा करने में सक्षम रहेंगे। आप की दबी हुई कोई प्रतिभा लोगों के समक्ष उजागर होगी। जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा तथा मान-सम्मान में भी वृद्धि होगी। घर की सुख-स...

और पढ़ें