एंटीलिया केस में कंगना का पोस्ट:सचिन वझे की गिरफ्तारी पर कंगना रनोट बोलीं- अगर ठीक से जांच हो जाए तो महाराष्ट्र सरकार गिर जाएगी

मुंबईएक वर्ष पहले

एंटीलिया केस में विवादों में घिरे मुंबई पुलिस के असिस्टेंट इंस्पेक्टर सचिन वझे मामले में अभिनेत्री कंगना रनोट भी मैदान में आ गई हैं। उन्होंने वझे के पक्ष में सोशल मीडिया पर पोस्ट करके कहा कि मामले की ठीक से जांच हो जाए तो महाराष्ट्र सरकार गिर जाएगी।

कंगना ने पोस्ट किया- मेरे एक्स-रे यहां बड़ी साजिश का पता लगा सकते हैं, शिवसेना की ओर से सत्ता में आने के बाद उन्हें (वझे को) सस्पेंड कर दिया गया था फिर उन्हें वापस ले लिया। अगर ठीक से जांच की गई तो न केवल छिपे हुए कंकाल बाहर निकल आएंगे, बल्कि महाराष्ट्र सरकार भी गिर जाएगी, मैं 200 और प्राथमिकी दर्ज कर सकती हूं, इसे लाएं। जय हिंद।

कंगना का महाराष्ट्र सरकार से पहले भी टकराव होता रहा है
एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में कंगना महाराष्ट्र पुलिस और उद्धव सरकार पर निशाना साधती रही हैं। पिछले साल जब यह केस चर्चा में था, तब बृहन्नमुंबई म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन (BMC) ने मुंबई स्थित कंगना के ऑफिस के एक हिस्से को अवैध बताकर तोड़ दिया थ। कंगना ने इस कार्रवाई के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कंगना की याचिका पर BMC को फटकार लगाई थी। अदालत ने कहा था, ‘यह कार्रवाई याचिकाकर्ता को कानूनी मदद लेने से रोकने की कोशिश थी। हम किसी भी नागरिक के खिलाफ ‘मसल पावर’ का इस्तेमाल करने की इजाजत नहीं दे सकते।’

सचिन वझे पर क्या आरोप है?
उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर 25 फरवरी को विस्फोटक से भरी स्कॉर्पियो मिली थी। इस केस की जांच NIA कर रही है। इस ममले में सचिन वझे को NIA ने गिरफ्तार किया है। जिस स्कॉर्पियो में विस्फोटक मिला था वह मनसुख हिरेन की थी। 5 मार्च को मनसुख का शव ठाणे के कलवा क्रीक के पास मिला था। पुलिस का अनुमान था कि उन्होंने क्रीक में कूदकर खुदकुशी की थी। उनके मुंह पर पांच रूमाल बंधे हुए थे। इस पर सवाल उठे थे कि खुदकुशी के लिए वे मुंह पर पांच रूमाल क्यों बांधेंगे?

मनसुख की पत्नी विमला ने वझे पर उनके पति की हत्या का आरोप लगाया था। विमला का कहना था कि मौत से पहले वाली रात को वझे ने ही उनके पति को बुलाया था। उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक पत्र लिखा था। बाद में महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता उद्धव ठाकरे ने विधानसभा में इस पत्र का जिक्र करते हुए केस की जांच NIA से कराने की मांग की थी। ​​​

खबरें और भी हैं...