• Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Sachin Waze; Mukesh Ambani Antilia House Security Case Update | Maharashtra Assistant Police Inspector Sachin Waze Arrested BY NIA

एंटीलिया केस:NIA की कस्टडी में सचिन वझे की तबीयत बिगड़ी, इलाज के बाद अस्पताल से छुट्‌टी मिली

मुंबईएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • सचिन वझे गिरफ्तारी के विरोध में हाईकोर्ट पहुंचे
  • सामना में शिवसेना ने लिखा- केंद्र ने पिछला हिसाब किया चुकता

मुंबई पुलिस के अफसर सचिन वझे की तबीयत बिगड़ने के बाद सोमवार शाम उन्हें जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के बाद डॉक्टरों ने उन्हें छुट्‌टी दे दी। वहां से NIA वझे को पूछताछ के लिए साथ ले गई। सचिन को सीने में दर्द की शिकायत हुई थी। दो डॉक्टरों की टीम ने उनकी जांच की।

वझे को कॉर्डियोलॉजी विभाग में भर्ती किया गया, उनके सीने का एक्स-रे और ECG भी कराया गया। डॉक्टर ने जांच की कि सच में उन्हें हृदय संबंधी कोई तकलीफ है या नहीं। उधर, मुंबई पुलिस से सस्पेंड हो चुके सचिन ‌‌‌‌‌‌‌वझे ने मुंबई हाईकोर्ट में एक हैबियस कॉरपस (बंदी प्रत्यक्षीकरण) याचिका दायर की। इस याचिका में उन्होंने अपनी गिरफ्तारी को अवैध बताया है।

PPE किट पहनाकर क्राइम सीन रीक्रिएट करेगी NIA
NIA ने वझे को शनिवार रात गिरफ्तार किया था। अब NIA उन्हें PPE किट पहनाकर क्राइम सीन रीक्रिएट करेगी। 25 फरवरी को PPE किट पहने एक व्यक्ति का CCTV वीडियो सामने आया था, इसमें वह मुकेश अंबानी के घर के बाहर खड़ी विस्फोटक भरी स्कॉर्पियो के पास से गुजरता दिखा था। NIA को शक है कि यह वही व्यक्ति है, जिसने स्कॉर्पियो को अंबानी के घर के बाहर खड़ा किया था।

इस बीच, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और NCP चीफ शरद पवार की कुछ देर पहले मीटिंग हुई थी। करीब एक घंटे चली मीटिंग के दौरान घटनाक्रम का रिव्यू किया गया। माना जा रहा है कि इसके बाद ही वझे को सस्पेंड करने का फैसला किया गया।

सचिन वझे की टीम के अन्य सदस्यों से पूछताछ जारी
सचिन वझे के साथ काम करने वाले CIU के कुछ अधिकारी और कांस्टेबल को दूसरी बार NIA ने सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया है। कुछ देर पहले वे NIA ऑफिस पहुंचे हैं। API रियाज काजी CIU में सचिन वाझे के साथ काम करते थे उनसे फिर से पूछताछ हो रही है। इन सभी से NIA के एक SP पूछताछ कर रहे हैं।

कुछ और लोगों की गिरफ्तारी संभव
NIA सूत्रों के मुताबिक, इनोवा और स्कॉर्पियो के ड्राइवर का पता चल गया है। दोनों से पूछताछ जारी है और जल्द ही उनकी गिरफ्तारी दिखाई जा सकती है। जांच में सामने आया है कि दोनों सचिन वझे के करीबी थे।

सचिन की सोसाइटी का CCTV फुटेज जब्त
NIA की टीम सचिन वझे के ठाणे स्थित घर पर भी पूछताछ के लिए पहुंची थी और वहां से 2 मार्च से लेकर अब तक के CCTV फुटेज जब्त किए गए हैं। सोसाइटी के मेंबर्स से भी पूछताछ हुई है। सचिन वझे का परिवार फिलहाल घर पर नहीं है।

करोड़ों की प्रॉपर्टी का पता चला
सूत्रों के मुताबिक- NIA की जांच में सामने आया है कि वझे कई साल से नौकरी में नहीं रहने के बावजूद कई करोड़ की संपत्ति के मालिक थे। उनकी पत्नी के नाम पर भी करोड़ों की प्रॉपर्टी होने का पता चला है। NIA जांच की रडार पर कुछ राजनीतिक दलों के नेता भी शामिल हैं।

सचिन वझे गिरफ्तारी के विरोध में हाईकोर्ट पहुंचे
मुंबई पुलिस के असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वझे ने अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। इसमें उन्होंने अपनी गिरफ्तारी को अवैध करार दिया है। साथ ही कहा है कि NIA ने सिर्फ शक के आधार पर उन्हें गिरफ्तार किया। इसमें नियमों का पालन नहीं किया। हाईकोर्ट ने याचिका स्वीकार कर ली है, लेकिन अभी यह स्पष्ट नहीं है कि सुनवाई कब होगी।

सचिन के बहाने शिवसेना का केंद्र पर निशाना
इस बीच शिवसेना ने सचिन वझे की गिरफ्तारी के बहाने केंद्र सरकार पर हमला बोला है। पार्टी के मुखपत्र सामना में शिवसेना ने केंद्रीय जांच एजेंसियों की कार्रवाई को लेकर सवाल उठाए हैं और इसे बदले की कार्रवाई करार दिया है।

सामना में कहा गया है कि महाराष्ट्र सरकार ने वझे का ट्रांसफर करके पूरे मामले की जांच राज्य की एंटी टेररिज्म स्क्वाड (ATS) को सौंपी थी। यह जांच चल ही रही थी कि केंद्र ने NIA को जांच के लिए भेज दिया। इतनी जल्दी इसकी जरूरत नहीं थी। महाराष्ट्र के किसी मामले में टांग अड़ाने का मौका मिले तो केंद्र की जांच एजेंसियां भला पीछे क्यों रहें?

सामना ने आगे और क्या लिखा?
‘एंटीलिया केस की जांच NIA ने अपने हाथ में लेकर तुरंत वझे को गिरफ्तार कर अपना कर्तव्य पूरा कर दिखाया है। वझे की गिरफ्तारी के बाद BJP को जो आनंद मिला है उसका वर्णन करने में शब्द कम पड़ जाएंगे। कुछ महीने पहले वझे ने रायगढ़ पुलिस की मदद से भाजपा के ‘महंत’ अर्नब गोस्वामी को अन्वय नाईक आत्महत्या मामले में हथकड़ियां लगाई थीं। उस समय ये लोग गोस्वामी का नाम लेकर रो रहे थे और वझे को श्राप दे रहे थे और कह रहे थे ‘रुकिए, देख लेंगे, केंद्र में हमारी ही सत्ता है।' वो मौका अब साध लिया गया है।

अर्नब गोस्वामी को गिरफ्तार कर उसे जेल भेजने से वझे भाजपा और केंद्र की हिटलिस्ट पर थे। मुंबई पुलिस की जांच पूरी होने तक केंद्रीय दस्ता रुकने को तैयार नहीं था। कश्मीर घाटी में आज भी विस्फोटकों का जखीरा मिल रहा है, लेकिन यह NIA का दस्ता वहां गया क्या? पुलवामा में विस्फोटकों का जखीरा कहां से अंदर घुसाया गया और उस विस्फोट में हमारे 40 जवानों की बलि कैसे गई? ये आज भी रहस्य ही है!

केंद्र की ओर से विपक्ष की सरकारों को अस्थिर या बदनाम करने के लिए किसी भी स्तर पर जाना, फर्जी मामले बनाना, राज्य सरकार के अधिकारों पर अतिक्रमण करना बेझिझक चल रहा है। सुशांत मामले में मुंबई पुलिस ने बेहतरीन जांच की फिर भी केंद्र ने CBI को इस मामले में घुसाया। CBI ने भी कौन से दीये जलाए? वो भी हाथ मलते रह गए। कंगना रनोट ने गैरकानूनी काम किए फिर भी केंद्र सरकार और BJP उसके समर्थन में खड़े रहे।’

25 मार्च तक कस्टडी में हैं सचिन वझे
पुलिस अफसर सचिन वझे को स्पेशल कोर्ट ने 14 मार्च से 25 मार्च तक NIA की कस्टडी में भेज दिया है। उन्हें एंटीलिया के पास विस्फोटक से भरी कार रखने के मामले में शनिवार रात को गिरफ्तार किया गया था। वझे ने शुक्रवार को ठाणे की सेशन कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका लगाई थी। इस पर कोर्ट ने कहा था कि शुरुआती तौर पर सबूत आपके खिलाफ हैं, लिहाजा अन्य पक्षों को भी सुनना जरूरी है। कोर्ट ने उनकी इस याचिका पर सुनवाई 19 मार्च तक के लिए टाल दी थी।

स्कॉर्पियो के पीछे नजर आने वाली इनोवा कार बरामद होने का दावा
दावा किया जा रहा है कि NIA की टीम ने उस इनोवा कार को भी बरामद कर लिया है, जो एंटीलिया के बाहर खड़ी स्कॉर्पियो के पीछे दो बार नजर आई थी। यह इनोवा शनिवार रात बरामद की गई थी। न्यूज एजेंसी ने जांच एजेंसी के सूत्रों के हवाले से बताया है कि यह कार क्राइम ब्रांच की है और वझे इस क्राइम ब्रांच में रहते हुए इसका इस्तेमाल करते थे। यह भी कहा जा रहा है कि NIA ने क्राइम ब्रांच के दो अफसर और दो ड्राइवर को भी तलब किया है।

खबरें और भी हैं...