पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Sachin Vaze: Mukesh Ambani Antilia House Security Case Update | NIA Investigation, Sachin Waze News News, And Mumbai Update

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एंटीलिया केस में NIA का एक्शन:जांच एजेंसी ने सचिन वझे के ऑफिस पर छापा मारा; मोबाइल फोन, आईपैड और मर्सिडीज कार जब्त की

मुंबईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर से जिलेटिन से भरी स्कॉर्पियो की बरामदगी के मामले में क्राइम इंटेलीजेंस यूनिट (CIU) के पूर्व चीफ सचिन वझे के ऑफिस पर NIA की टीम ने छापेमारी की। सोमवार रात 8 बजे से मंगलवार तड़के 4 बजे तक जांच की जाती रही। इस दौरान NIA ने वझे का मोबाइल और आई पैड और मर्सिडीज कार जब्त कर ली। NIA के सूत्रों के मुताबिक, वझे ने मनसुख हीरेन से 17 फरवरी को इसी कार में मीटिंग की थी। मनसुख अपनी गाड़ी खराब होने पर उसे छोड़कर सचिन वझे से ही मिलने गए थे।

NIA के IG अनिल शुक्ला ने बताया कि NIA ने काले रंग की मर्सिडीज बेंज कार जब्त कर ली है। इसमें स्कॉर्पियो कार की नंबर प्लेट, 5 लाख रुपए, नोट गिनने की मशीन और कुछ कपड़े बरामद हुए। सचिन वझे इस कार को चलाते थे। यह कार किसकी है, इसकी जांच की जा रही है।

NIA के सूत्रों के मुताबिक, वझे ने मनसुख हीरेन से 17 फरवरी को इसी कार में मीटिंग की थी।
NIA के सूत्रों के मुताबिक, वझे ने मनसुख हीरेन से 17 फरवरी को इसी कार में मीटिंग की थी।

CIU का ऑफिस मुंबई पुलिस कमिश्नर के ऑफिस में ही है। यहां से कुछ दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं। अब तक CIU के 10 अफसरों से पूछताछ की जा चुकी है। NIA के IG अनिल शुक्ला एंटीलिया मामले की जांच लीड कर रहे है। शुक्ला 1988 बैच के AGMUT कैडर के हैं। वह भी सचिन वझे के ऑफिस में मौजूद थे। उन्होंने सभी अधिकारियों से पूछताछ की है।

वझे की टीम ने उनकी सोसाइटी के CCTV फुटेज​​ लिए थे
वझे की गिरफ्तारी के बाद से इस केस में हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं। 25 फरवरी को सचिन वझे को एंटीलिया केस की जांच सौंपी गई थी। अब जानकारी सामने आ रही है कि सचिन वझे की टीम ने ठाणे के साकेत कॉम्प्लेक्स में लगे CCTV कैमरों का डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर (DVR) अपने कब्जे में ले लिया था। सचिन वझे इसी सोसाइटी में रहते हैं। NIA की टीम ने उस DVR को फिर से हासिल कर लिया है।

अब सवाल यह खड़े हो रहे हैं कि आखिर CIU के लोगों ने वझे की सोसाइटी से DVR हटाया क्यों था। इस बीच NIA को यह जानकारी मिली है कि स्कॉर्पियो कभी चोरी नहीं हुई थी।

सोसाइटी ने DVR देने से पहले लिखित प्रमाण मांगा था
सोसाइटी के एक अधिकारी ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर कहा, ‘CIU की टीम के चार लोग सोसाइटी के क्लब हाउस में 27 फरवरी को आए और उनसे DVR जब्त करने की बात कही। इस पर सोसाइटी के मेंबर ने कहा कि वे बिना किसी लिखित आदेश के DVR उन्हें नहीं दे सकते।

इसके बाद पुलिसकर्मियों में से एक ने एक लिखित नोट उन्हें सौंपा। जिस पर लिखा हुआ था, 'धारा 41 CRPC के अनुसार, हम साकेत सोसाइटी को नोटिस दे रहे हैं कि मुंबई क्राइम ब्रांच, CIU, DCB, CID मुंबई को धारा 286, 465, 473, IPC 120 (B), इंडियन एक्सप्लोसिव एक्ट में दर्ज FIR संख्या 40/21 की जांच के लिए साकेत सोसाइटी के दोनों डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर चाहिए। नोटिस में जांच में सहयोग करने का भी आदेश दिया गया था।’

यह वही नोटिस है जो क्राइम इन्वेस्टिगेशन यूनिट की टीम ने सचिन वझे की सोसायटी के लोगों को DVR जब्त करने के लिए दिया था।
यह वही नोटिस है जो क्राइम इन्वेस्टिगेशन यूनिट की टीम ने सचिन वझे की सोसायटी के लोगों को DVR जब्त करने के लिए दिया था।

शरद पवार बोले- एक इंस्पेक्टर का असर पूरी सरकार पर नहीं पड़ता
कई शिवसेना नेताओं के साथ सचिन वझे के गहरे संबंध होने की बातें सामने आ रही हैं। इस पर मंगलवार को NCP चीफ शरद पवार ने अपनी बात रखी। उन्होंने दिल्ली में कहा कि महाविकास अघाड़ी में कोई परेशानी नहीं है। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली सरकार सही ढंग से काम कर रही है। एक इंस्पेक्टर का असर पूरी सरकार पर नहीं पड़ता है। जांच पर हम ज्यादा नहीं कहेंगे। एक नेशनल एजेंसी इस मामले की जांच कर रही है और हमारा काम है उनका पूरा सहयोग करना।

पवार ने कहा कि उद्धव जी को मैंने कोई निर्देश नहीं दिया है। वे प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं। कल हमारी सामान्य मुद्दों पर बात हुई है। महाराष्ट्र से जुड़े मसलों और केंद्र से समन्वय पर हमने चर्चा की। महाराष्ट्र सरकार ने सही ढंग से एंटीलिया केस को हैंडल किया है। गलत काम करने वालों को लोकेट किया और उन पर कार्रवाई की है। आगे भी ऐसे लोगों को उनकी सही जगह दिखाई जाएगी।

मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को हटाने पर शरद पवार ने कहा कि यह सवाल आपको मुख्यमंत्री से पूछना चाहिए।

रियाजुद्दीन काजी भी संदेह के घेरे में
NIA ने वझे के नेतृत्व में काम करने वाले दो अधिकारियों CIU के API रियाजुद्दीन काजी और एक PSI के अलावा दो ड्राइवरों से सोमवार को साढ़े 9 घंटे तक पूछताछ की है। यह पूछताछ आज भी जारी रहने वाली है और इस केस में NIA कुछ अन्य लोगों को भी अरेस्ट कर सकती है। CIU की जो टीम वझे की सोसायटी में DVR लेने पहुंची थी, उसमें काजी भी शामिल थे।

स्कॉर्पियो के चोरी नहीं होने के संकेत मिले
इस बीच NIA सूत्रों के आधार पर एक बड़ी जानकारी सामने आ रही है। CCTV फुटेज की जांच में यह सामने आया है कि मनसुख की स्कॉर्पियो कभी चोरी नहीं हुई थी। बल्कि यह स्कॉर्पियो 18 से 24 फरवरी के बीच कई बार सचिन वझे की सोसाइटी में नजर आई थी। हिरेन ने अपने बयान में कहा था कि 17 फरवरी को मुलुंड-ऐरोली रोड से उनकी स्कॉर्पियो गायब हुई थी। फॉरेंसिक रिपोर्ट भी यह साबित करती है कि कार में कोई फोर्स एंट्री नहीं हुई थी। इसे चाबी से खोला गया था।

इस मामले में अब तक क्या-क्या हुआ

  • 25 फरवरी: मुकेश अंबानी के घर से कुछ दूरी पर खड़ी सिल्वर कलर की स्कॉर्पियो कार से 20 जिलेटिन छड़ें बरामद हुई। लावारिस गाड़ी में विस्फोटक मिलने की खबर मिलते ही मुंबई पुलिस के बम निरोधक दस्ता, डॉग स्क्वाड ने पड़ताल शुरू की। उसी रात ATS को पता चला कि गाड़ी मनसुख हिरेन की है जो 18 फरवरी को चोरी हो गई थी।
  • 26 फरवरी: हिरेन को पूछताछ के लिए API सचिन वझे दक्षिण मुंबई में पुलिस कमिश्नर के ऑफिस लेकर आया।
  • 27-28 फरवरी: सचिन वझे ने दोबारा हिरेन का बयान दर्ज किया।
  • 28 मार्च: आतंकी संगठन ‘जैश उल हिंद’ ने इस घटना की जिम्मेदारी लेते हुए धमकी भरा संदेश दिया है। संगठन ने टेलीग्राम एप के जरिए इस घटना की जिम्मेदारी ली।
  • 1 मार्च: क्राइम ब्रांच को पता चला कि हिरेन और वझे एक-दूसरे को पहले से जानते हैं। इसके बाद केस असिस्टेंट कमिश्नर ऑफ पुलिस (ACP) नितिन अल्कानुर को ट्रांसफर कर दिया गया।
  • 3 मार्च: मनसुख हिरेन ने पुलिस द्वारा प्रताड़ित किए जाने की शिकायत की।
  • 5 मार्च: मनसुख हिरेन का शव मिला। शुरुआत में सुसाइड की बात कही। लेकिन समय बीतने के साथ ही उनकी मौत पर रहस्य गहराने लगे।
  • 6 मार्च: देवेंद्र फडणवीस द्वारा वझे की भूमिका को लेकर सवाल उठाए जाने के बाद केस ATS को सौंप दिया गया।
  • 7 मार्च: ATS ने हत्या, सबूत नष्ट करने, अज्ञात लोगों के खिलाफ साजिश का मामला दर्ज किया।
  • 8 मार्च: MHA के आदेशों के बाद, NIA ने ATS से मामले को टेकओवर किया।
  • 9 मार्च: देवेंद्र फडणवीस ने विधानसभा में हिरेन की पत्नी विमला का बयान पढ़ा।
  • 11 मार्च: एक निजी साइबर फर्म ने बताया कि जैश ने जो संदेश भेजा था उसका टेलीग्राम चैनल दिल्ली के तिहाड़ जेल या इसके आसपास क्रिएट किया गया था। जेल में इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी के बैरक से मोबाइल बरामद किया गया।
  • 12 मार्च: वझे का तबादला मुंबई पुलिस के नागरिक सुविधा केंद्र में कर दिया गया।
  • 12 मार्च: हिरेन की हत्या के मामले में प्रथम दृष्टया सबूत के आधार पर ठाणे की अदालत द्वारा वझे को अंतरिम जमानत से इनकार कर दिया गया।
  • 13 मार्च: वझे को रात 11.50 बजे NIA कार्यालय लाया गया और पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया।
  • 14 मार्च: वझे को 25 मार्च तक NIA की हिरासत में भेज दिया गया।
  • 15 मार्च: सचिन वझे को सस्पेंड कर दिया गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

और पढ़ें