• Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Before Ashadhi Ekadashi, the police started efforts to impose curfew in Pandharpur, CM also has to come here for worship

महाराष्ट्र / आषाढ़ी एकादशी से पहले पुलिस ने पंढरपुर में कर्फ्यू लगाने के प्रयास शुरू किए, सीएम को भी यहां पूजा के लिए आना है

पंढरपुर में भगवान विट्ठल और रुक्मणि के मंदिर परिसर में हर साल बड़ा मेला लगता है। इसमें कई लाख लोग शामिल होते हैं। पंढरपुर में भगवान विट्ठल और रुक्मणि के मंदिर परिसर में हर साल बड़ा मेला लगता है। इसमें कई लाख लोग शामिल होते हैं।
X
पंढरपुर में भगवान विट्ठल और रुक्मणि के मंदिर परिसर में हर साल बड़ा मेला लगता है। इसमें कई लाख लोग शामिल होते हैं।पंढरपुर में भगवान विट्ठल और रुक्मणि के मंदिर परिसर में हर साल बड़ा मेला लगता है। इसमें कई लाख लोग शामिल होते हैं।

  • पंढरपुर के मंदिर में पहली पूजा करने का सम्मान राज्य के मुख्यमंत्री को परंपरागत रूप से दिया जाता है
  • मुख्यमंत्री ने सभी धर्मों के लोगों को संकट के समय में अपने रीति-रिवाजों और त्योहारों को घरों में ही मनाने के लिए धन्यवाद दिया

दैनिक भास्कर

Jun 29, 2020, 07:48 PM IST

पुणे. सोलापुर पुलिस ने जिला प्रशासन को कोरोना वायरस के मद्देनजर आषाढ़ी एकादशी से पहले पंढरपुर में कर्फ्यू लगाने का प्रस्ताव भेजा है। हर साल आषाढ़ी एकादशी पर लाखों श्रद्धालु पंढरपुर में भगवान विठ्ठल के मंदिर आते हैं, जो इस साल एक जुलाई को है। 

कोरोना वायरस के मद्देनजर अधिकारियों ने फैसला किया है कि इस वर्ष 'वारि' (तीर्थयात्रा) संत ज्ञानेश्वर, संत तुकाराम और अन्य के पादुकाओं के साथ आयोजित की जाएगी, जिन्हें हवाई या सड़क मार्ग से पंढरपुर ले जाया जाएगा। परंपरागत रूप से आम तौर पर इन्हें पैदल ले जाया जाता है। 

आषाढ़ी एकादशी के दिन पंढरपुर जाएंगे सीएम
मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि वह 1 जुलाई को आषाढ़ी एकादशी के दिन पंढरपुर के विट्ठल मंदिर में पूजा करने जाएंगे और भगवान से प्रार्थना करेंगे कि दुनिया को कोरोना के संकट से मुक्ति दिलाएं। पंढरपुर के मंदिर में पहली पूजा करने का सम्मान राज्य के मुख्यमंत्री को परंपरागत रूप से दिया जाता है। मुख्यमंत्री ने सभी धर्मों के लोगों को संकट के समय में अपने रीति-रिवाजों और त्योहारों को घरों में ही मनाने के लिए धन्यवाद दिया।

पंढरपुर में कर्फ्यू लगाने का प्रस्ताव भेजा गया 
सोलापुर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अतुल जेंडे ने बताया कि बाहर के लोग मंदिर के बाहर इकट्ठे ना हों, इसलिए हमने सोमवार को ही नाकेबंदी कर दी। उन्होंने कहा, "पंढरपुर में आवाजाही प्रतिबंधित करने के लिए कर्फ्यू लगाने की भी योजना है। पंढरपुर में 30 जून से दो जुलाई तक कर्फ्यू लगाने के लिए एक प्रस्ताव सोलापुर कलेक्टर को भी भेजा गया है।"

सिर्फ पास वाले ही मंदिर परिसर में जा सकेंगे
उन्होंने बताया कि मंदिर प्रशासन ने जिन लोगों को पास दिया है, केवल वहीं धार्मिक परिसर में दाखिल हो सकेंगे। आमतौर पर लाखों लोग इस दौरान यहां आते हैं लेकिन कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए अधिकारियों ने उत्सव को इस साल सादगी से मनाने का निर्णय किया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना