पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पुणे:सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ का दावा- इस साल के अंत तक कोविड-19 की वैक्सीन आएगी, देश में उम्मीद से टेस्टिंग कम हो रही

पुणेएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अदर पूनावाला सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ हैं। -फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
अदर पूनावाला सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ हैं। -फाइल फोटो
  • अदर पूनावाला यहां एक मेडिकल इक्युपमेंट के लॉन्च इवेंट को संबोधित कर रहे थे
  • पूनावाला ने कहा- सरकार को टेस्टिंग किट के एक्सपोर्ट की मंजूरी देनी चाहिए

बाजार में कोरोना की जल्द वैक्सीन लाने पर लगाई जा रही अटकलों को सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ अदर पूनावाला ने खारिज कर दिया है। उन्होंने मंगलवार को साफ किया कि कोरोना की वैक्सीन इस साल के अंत तक आएगी। अदर पुणे में एक मेडिकल इक्युपमेंट के लॉन्च इवेंट में बोल रहे थे। 

‘हम एक सुरक्षित और कारगर वैक्सीन लाने की कोशिश कर रहे हैं’
पुणे में एक इवेंट के दौरान उन्होंने कहा- ‘वैक्सीन के तीसरे ट्रायल के सफलतापूर्वक पूरा हो जाने के बाद हम इस मुद्दे पर बात करेंगे। हाल में यह जानकारी सामने आई कि बाजार में जल्द एक वैक्सीन आने वाली है, लेकिन हम कोई भी जल्दबाजी नहीं करना चाहते हैं। हमारा उद्देश्य एक ऐसी वैक्सीन बनाने का है जो सुरक्षित और कारगार हो। जब हमें भरोसा हो जाएगा तब हम भारत और पूरी दुनिया के लिए इसका ऐलान कर देंगे।’ हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि हम जल्द ही इसके निर्माण के लिए लाइसेंस प्राप्त कर लेंगे।

'वर्तमान में हम अपनी क्षमता से कम टेस्टिंग कर रहे हैं'
भारत में वर्तमान समय पर बहुत सी टेस्टिंग किट्स और लैब मौजूद हैं। हमारे पास यह क्षमता है कि हम काफी टेस्टिंग किट तैयार कर सकते हैं। हमें उम्मीद है कि सरकार इन टेस्टिंग किट को एक्सपोर्ट करने की मंजूरी देगी। उन्होंने यह भी कहा कि वर्तमान में हम अपनी क्षमता से काफी कम टेस्टिंग कर रहे हैं।

'हमारे पास 20 लाख टेस्टिंग किट्स के निर्माण की क्षमता'
सायरस ने आगे कहा कि प्राइवेट और सरकारी लैब लोगों को ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग के लिए प्रोत्साहित नहीं कर रही है। अगर आपमें कोई लक्षण नहीं है तो आपकी टेस्टिंग नहीं होगी। हम 20 लाख टेस्टिंग किट हर महीनें बना सकते हैं लेकिन हमारे पास इसे बेचने के लिए मार्केट नहीं है। साथ ही हमें एक्सपोर्ट करने की मंजूरी भी नहीं दी गई है। यही करण है कि हम इसकी आधी से भी कम संख्या का निर्माण कर रहे हैं।

संक्रमितों का पता लगाने के लिए टेस्टिंग ही सबसे बड़ा उपाय
पूनावाला ग्रुप के चेयरमैन साइरस पूनावाला ने भी कम टेस्टिंग को लेकर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि देश में जितनी टेस्टिंग होनी चाहिए उससे काफी कम टेस्ट हो रहे हैं। कोई भी अपनी ओर से टेस्ट के लिए आगे नहीं आ रहा है। बिना टेस्टिंग के हम यह नहीं पता लगा सकते है कि हमारे पड़ोस में कोई कोरोना संक्रमित है या नहीं।

खबरें और भी हैं...