समुद्र में डूबी बोट का आखिरी वीडियो:ताऊते तूफान टगबोट को बहा ले गया; 13 लोग जिंदगी बचाने के लिए जूझते रहे, नाव डूबने लगी तो पानी में कूदे

मुंबई6 महीने पहले
यह वीडियो टगबोट पर सवार साहेब भूनिया ने बनाया है। वे और उनके साथी फ्रांसिस साइमन ही इस हादसे में जिंदा बचे हैं।

चक्रवाती तूफान ताऊ ते की चपेट में आकर समुद्र में डूबी टगबोट वरप्रदा पर सवार 13 में से 11 लोगों की मौत हो गई है। गुजरात और रत्नागिरी में मिले 16 शवों में से 11 वरप्रदा पर सवार लोगों के ही बताए जा रहे हैं। तकरीबन 7 दिन तक पानी में रहने के कारण इन्हें पहचानने में मुश्किल आ रही है। DNA टेस्ट के माध्यम से इनकी पहचान की जा रही है।

समुद्र में डूबी इस टगबोट के कुछ हिस्से मुंबई से 35 किलोमीटर दूर समुद्र में मिल चुके हैं। इस बीच वरप्रदा के डूबने का आखिरी वीडियो सामने आया है।

टगबोट के मलबे को तलाशते कोस्टगार्ड के जवान।
टगबोट के मलबे को तलाशते कोस्टगार्ड के जवान।

बोट पर सवार जो दो लोग बचे हैं, उनमें 50 साल के चीफ इंजीनियर फ्रांसिस साइमन और 23 साल के साहेब भूनिया शामिल हैं। साहेब भूनिया ने ही भयानक तूफान के बीच इस वीडियो को शूट किया था। वीडियो में टगबोट पर सवार सूरज चौहान नाम के डेक कैडेट भी नजर आ रहे हैं। वीडियो में साहेब अपने साथी सूरज से कह रहे हैं कि वे तनाव न लें।

लंगर डाल दिया था, तूफान फिर भी बहा ले गया
बंगाल के रहने वाले साहेब भूनिया ने बताया कि मौसम विभाग की चेतावनी के बाद हम JNPT पोर्ट पहुंच गए थे। वहां एंकर डाल दिया था। तूफान आया, तो बोट का एंकर भी टूट गया। कुछ देर बाद बोट डूबने लगी। फिर हमने बोट से छलांग लगा दी। वीडियो में बोट को धीरे-धीरे डूबते देखा जा सकता है।

टगबोट पर सवार सूरज की आखिरी तस्वीर।
टगबोट पर सवार सूरज की आखिरी तस्वीर।

सूरज के पिता को उम्मीद, जल्द लौटेगा बेटा
बोट से लापता हुए सूरज को तलाशने के लिए उनके पिता संतलाल चौहान सोमवार को मुंबई पहुंचे और उन्होंने अपना खून का नमूना DNA जांच के लिए दिया है। पिता का कहना है कि उनका बेटा सूरज एक ऑइल बार्ज पर था, वह वरप्रदा पर कैसे पहुंचा। उन्हें अभी भी यकीन है कि चमत्कार होगा और उनका बेटा लौट आएगा।

यह होता है टगबोट का काम
टगबोट समुद्र में खराब हुए या फंसे हुए जहाजों को खींच कर किनारे तक लाने का काम करता है। ये लोहे की जंजीर और अन्य उपकरण की मदद से खराब जहाज को खींच कर किनारे तक लाती हैं।

खबरें और भी हैं...