समुद्र में रेस्क्यू ऑपरेशन का चौथा दिन:अब तक 49 शव बरामद, अभी 26 की तलाश; 5 आईएनएस शिप्स और सर्विलांस एयरक्राफ्ट P-81 भी रेस्क्यू में जुटे

मुंबई6 महीने पहलेलेखक: विनोद यादव
नेवी के रेस्क्यू मिशन को 60 घंटे से ज्यादा का वक्त बीत चुका है। अब लापता लोगों की तलाश में नेवी के टोही विमान को लगाया गया है।

चक्रवाती तूफान ‘ताऊ ते’ के चलते समुद्र में डूबे जहाज बार्ज P-305 पर रेस्क्यू ऑपेरशन का आज चौथा दिन है। अब तक जहाज पर सवार 49 लोगों के शव नेवी को मिले हैं। 26 लापता की तलाश जारी है। INS कोच्चि समेत 5 INS जहाज रेस्क्यू मिशन में लगे हैं।

रेस्क्यू मिशन को 60 घंटे से ऊपर बीत चुके हैं। बार्ज P-305 पर 261 लोग सवार थे। नेवी ने पहले ये आंकड़ा 273 बताया था। पेट्रोलियम मंत्रालय ने इस मामले की जांच का आदेश दिया है।

टोही विमान P-81 की मदद से जारी है तलाशी अभियान
लहरों में लापता हुए नाविकों की तलाश के लिए नौसेना के विमान और हेलिकॉप्टर करीब 60 घंटे से ज्यादा की उड़ान भर चुके हैं। नौसेना अब अपने टोही विमान P-81 की मदद ले रही है। तीन P-81 विमान तमिलनाडु एयर बेस से उड़ान भरकर मुंबई के समुद्र में नाविकों की तलाश में जुटे हैं। P-81 आसमान में रह कर समुद्र की गहराई की हर हलचल का आसानी से पता लगाने में सक्षम है।

नेवी के हेलिकॉप्टरों की सहायता से रेस्क्यू का काम किया जा रहा है।
नेवी के हेलिकॉप्टरों की सहायता से रेस्क्यू का काम किया जा रहा है।

जहाज मुंबई के समुद्र तट से करीब 88 किलोमीटर दूर हीरा ऑइल फील्ड्स के इलाके में डूबा है। नौसेना 80 से 100 किमी के क्षेत्र पर नजर बनाए हुए है। आसमान से तलाश जारी रखने के लिए 6 हेलिकॉप्टर और 3 विमान की मदद ली जा रही है। INS कोच्चि और कोलकाता के अलावा, INS तेग, INS बेतवा और INS ब्यास भी लापता लोगों की तलाश में जुटे हैं।

समुद्र की लहरों में फंसे अन्य तीन जहाज के सभी लोग सुरक्षित
इससे पहले तीन अन्य जहाज, GAL कंस्ट्रक्टर पर 137 लोग फंसे थे, इन सभी को रेस्क्यू कर लिया गया है। बार्ज SS-3 पर 202 और सागर भूषण पर 101 लोग फंसे हैं। नेवी के मुताबिक, ये सभी लोग सुरक्षित हैं और इन्हें खाना-पानी जैसी चीजें मुहैया कराई गई हैं।

समुद्र में फंसे 4 जहाज, उनमें सवार लोगों की स्थिति

जहाजइतने लोग सवार थेइतने रेस्क्यू किए गए
बार्ज P305263188
GAL कंस्ट्रक्टर137137
बार्ज SS-3202सभी सुरक्षित हैं
सागर भूषण101101
नेवी के मुताबिक, यह चार दशक का सबसे बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन है।
नेवी के मुताबिक, यह चार दशक का सबसे बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन है।

ONGC ने चेतावनी को किया नजरअंदाज, दर्ज हो केस: मलिक

P 305 की दुर्घटना पर NCP नेता और प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि चक्रवात को लेकर राज्य और IMD के कई अलर्ट के बाद भी ONGC ने इसे नजरअंदाज किया। 600 कामगारों की जिंदगी खतरे में थी। उन्हें सुरक्षित स्थानों पर नहीं पहुंचाया गया। इसकी वजह से लोगों की जान गई और कई अभी भी लापता हैं। जो अधिकारी इसके लिए जिम्मेदार हैं, उन्हें बर्खास्त किया जाना चाहिए। उन पर IPC की धारा 304 लगाई जानी चाहिए। उन्हें सजा मिलनी चाहिए।

खबरें और भी हैं...