आंखों को सुकून देती हैं यह तस्वीरें:भारी बारिश की वजह से कर्नाटक-गोवा बॉर्डर पर दूधसागर झरने के पास रुकी ट्रेन, अचानक नजर आया यह खूबसूरत नजारा

पणजी3 महीने पहले
ट्रेन के ऊपर गिरते झरने का यह वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है।

मानसून के इस मौसम में हुई अतिवृष्टि(भारी बारिश) ने महाराष्ट्र और गोवा के कई इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न कर दी है। इस बीच मानसून की कुछ सुखद तस्वीरें भी कोंकण रेलवे से सामने आईं हैं। मंगलवार को दक्षिण पश्चिम रेलवे की एक ट्रेन फेमस दूधसागर झरने से गुजर रही थी। बारिश के कारण ट्रेन को वॉटरफॉल के पास ही रोकना पड़ा। ट्रेन रुकी तो यहां बहुत ही खूबसूरत नजारा देखने को मिला।

फॉल के पास रुकी ट्रेन के ऊपर पानी और बादलों की सफेद चादर गिर रही थी। फिर यह धीरे-धीर कम होता गया। बता दें कि मॉनसून के दौरान दूधसागर में वाटरफॉल की रफ्तार बढ़ जाती है। ट्रेन पुल के ऊपर रुकी हुई थी और झरने के पानी की फुहारे ट्रेन के ऊपर पड़ रही थी। आई़एमडी के अनुसार गोवा में 31 जुलाई तक तेज बारिश की संभावना है।

इसका एक वीडियो प्रसार भारती ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर साझा किया है। वीडियो पर लोगों का खूब रिएक्शन आ रहा है। लोगों द्वारा इस वीडियो को दिलकश बताया जा रहा है।

यहां 310 मीटर ऊंचाई से गिरता है पानी
दूधसागर वॉटरफॉल गोवा में मंडोवी नदी पर बना है। यह वॉटरफॉल कर्नाटक और गोवा के बॉर्डर पर पड़ता है। दूधसागर जलप्रपात भारत के सबसे ऊंचे झरनों में से एक हैं इसकी ऊंचाई 310 मीटर (1017 फुट) और औसत चौड़ाई 30 मीटर (100 फुट) के बीच है।

पणजी से इसकी दूरी लगभग 60 किमी है। यहां मानसून के दौरान पर्यटकों का हुजूम उमड़ता है। दूधसागर झरने को "मिल्क ऑफ सी' भी कहा जाता है। हर कोई एक बार यहां जाने की जरूर इच्छा रखता है। दूध सागर झरने के सामने से रेलवे लाइन भी गुजरती है। मानसून के बाद यहां जाना ठीक रहता है। हिन्दी और साउथ की कई फिल्मों की शूटिंग भी यहां हुई है।