• Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Hanuman Chalisa Row: Navneet And Ravi Rana To Meet Amit Shah In Delhi Today, Maharashtra Govt Likely To Challenge Rana Couple’s Bail

फिर विवादों में राणा दंपती:नवनीत राणा की शिकायत पर संसद की विशेषाधिकार समिति करेगी जांच, अदालत ने जारी किया नोटिस

मुंबई9 महीने पहले
रविवार को नवनीत राणा ने मीडिया से बात करते हुए राज्य सरकार पर निशाना साधा था।

अमरावती से लोकसभा सांसद नवनीत राणा के खिलाफ हुई कार्रवाई की जांच अब संसद की विशेषाधिकार समिति करेगी। शाम 5.30 बजे नवनीत राणा ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला से मुलाकात की और इसी के बाद मीडिया से बात करते हुए राणा ने कहा कि जेल में और जेल से बाहर उनके साथ जो कुछ हुआ, वह सब उन्होंने ओम बिरला को बताया है।

अदालत ने लगाई है राणा दंपती को फटकार

राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तारी के 13 दिन बाद जमानत पर रिहा हुईं अमरावती से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। 50 हजार के मुचलके पर रिहा हुए राणा दंपती को लगातार मीडिया से बात करने पर मुंबई सेशंस कोर्ट से फटकार लगी है। अदालत ने एक नोटिस जारी कर दोनों से पूछा है कि क्यों न उनकी जमानत अर्जी को रद्द कर दिया जाए। सरकारी वकील प्रदीप घरात ने दोनों पर जमानत की शर्ते तोड़ने का आरोप लगाया है। दोनों को 18 मई को अदालत के सामने अपना जवाब दाखिल करना है।

बता दें कि दो दिन मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल में रहने के बाद रविवार को वे डिस्चार्ज हुईं तो बाहर निकलने के दौरान उन्होंने फिर से मीडियाकर्मियों से बात की और राज्य सरकार को ललकारा था। इसके बाद आज दिल्ली रवाना होने से पहले भी दोनों ने मीडिया से बात की थी। इसी को आधार बनाकर सरकारी वकील ने उनकी जमानत को रद्द करने की अर्जी कोर्ट में दायर की है।

लोकसभा स्पीकर से मिलने दिल्ली पहुंचे राणा दंपती
राणा दंपती कुछ देर पहले मुंबई से दिल्ली पहुंचे हैं। वे आज लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला से मुलाकात करेंगे। इसके अलवा उनका केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से भी मुलाकात का कार्यक्रम है। दिल्ली जाने से पहले मीडिया से बात करते हुए राणा दंपती ने फिर एक बार CM उद्धव ठाकरे पर निशाना साधा है। रवि राणा ने आरोप लगाया कि राज्य में बहुत सारी समस्याएं हैं, लेकिन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को हनुमान चालीसा पढ़ने में समस्या नजर आ रही है। एक महिला को अपमानित करना उन्हें सबसे बड़ा काम नजर आ रहा है।

हमारे खिलाफ बदला निकाल रही है सरकार
रवि राणा ने आगे कहा कि मुंबई में मेरा एक ही फ्लैट है, संजय राउत, अनिल परब और उद्धव ठाकरे की तरह मेरे कई घर नहीं है। BMC के लोगों से मैं यह कहना चाहता हूं कि 15 साल पहले यह बिल्डिंग बनी है, उद्धव ठाकरे ऑनलाइन के जरिए ढाई साल से काम कर रहे है वो भी मेरा फ्लैट ऑनलाइन देख सकते हैं। रवि राणा ने कहा कि जिस तरह से संजय राउत और अनिल देशमुख जैसे नेताओं पर सेंट्रल एजेंसीज कार्रवाई कर रही हैं, इसी का बदला राज्य सरकार हम पर निकाल रही है। राज्य में भ्रष्टाचार और घोटाले के माध्यम से सरकार चल रही है।

उद्धव हमें सिद्धांतों का पाठ न पढ़ाएं: नवनीत राणा
इसके बाद मीडिया के सामने आईं सांसद नवनीत राणा ने कहा- 'मेरे साथ बदसलूकी की गई, मैंने सिर्फ बदसलूकी पर बात की है, जनप्रतिनिधि से बुरा बर्ताव हुआ, लोकसभा स्पीकर से इसकी शिकायत करूंगी। सरकार ने मुझे जानबूझकर निशाना बनाया, न्याय मिलने तक दिल्ली में रहूंगी।' राणा ने आगे कहा कि गृह मंत्री अमित शाह से मिलूंगी। जेल में अपने ऊपर हुए अत्याचार को लेकर बात करूंगी। उद्धव ठाकरे हमें सिद्धांतो का पाठ ना पढ़ाएं।

हाथ में हनुमान चालीसा लेकर नवनीत राणा हॉस्पिटल से बाहर निकली थीं।
हाथ में हनुमान चालीसा लेकर नवनीत राणा हॉस्पिटल से बाहर निकली थीं।

सरकारी वकील ने जमानत रद्द करने की मांग उठाई
अब इसी को आधार बनाकर सरकारी वकील प्रदीप घरात ने आज सेशंस कोर्ट में एक याचिका दायर कर राणा दंपती की जमानत रद्द करने की मांग करेंगे। इस बीच नवनीत राणा और उनके पति विधायक रवि राणा दिल्ली के लिए रवाना हो चुके हैं। दोनों आज लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला से मुलाकात करने वाले हैं। नवनीत राणा पहले गृहमंत्री अमित शाह से भी मिलने वालीं थीं, लेकिन पश्चिम बंगाल के दौरे पर होने के कारण शाह की ओर से यह मीटिंग स्थगित कर दी गई है।

नवनीत राणा ने कहा- जारी रहेगी हनुमान चालीसा की लड़ाई
रविवार को अस्पताल से बाहर निकलते समय नवनीत राणा ने कहा था कि यह एक धार्मिक लड़ाई थी और यह जारी रहेगी। उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को उनके खिलाफ चुनाव लड़ने की चुनौती भी दी थी। जेल से रिहा होने पर, उन्होंने सीने में दर्द और हाई ब्लडप्रेशर की शिकायत के बाद लीलावती हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया था।

कोर्ट की शर्त का किया उल्लंघन
महाराष्ट्र सरकार के मंत्री अब्दुल सत्तार ने नवनीत राणा के बयान पर कहा कि महाराष्ट्र की पुलिस उसकी जांच करेगी और लीगल एडवाइजर से सलाह ली जाएगी। कोर्ट के आदेश का उल्लंघन हुआ है और उन्हें दोबारा जेल में जाना चाहिए। मंत्री ने कहा कि, हैरत वाली बात है वो जवाबदार लोग हैं, कोर्ट ने बेल देते समय शर्त रखी है, लेकिन वो शर्त को भंग कर रहे हैं। उनके खिलाफ कंटेंप्ट ऑफ कोर्ट होना चाहिए।

खबरें और भी हैं...