• Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • In Jalna, The BJP Leader Was Beaten Up By The Police Officer 20 Days Ago, Now The Suspense In The Bribery Case Has Become Viral, The Video Of The Beating

कैमरे में कैद पुलिसकर्मी की क्रूरता:जालना में 20 दिन पहले भाजपा नेता की पुलिस अधिकारी ने की थी पिटाई, अब रिश्वत के मामले में हुस सस्पेंड तो वायरल हुआ पिटाई का वीडियो

जालनाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इस पिटाई में भाजपा नेता की पीठ और पैर में गंभीर चोटें लगी थी। वीडियो वायरल होने के बाद जालना पुलिस की जमकर आलोचना हो रही है। - Dainik Bhaskar
इस पिटाई में भाजपा नेता की पीठ और पैर में गंभीर चोटें लगी थी। वीडियो वायरल होने के बाद जालना पुलिस की जमकर आलोचना हो रही है।

महाराष्ट्र के जालना में एक भाजपा नेता की पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है। एक हॉस्पिटल के अंदर का यह वीडियो तकरीबन 20 दिन पुराना है। पीड़ित का आरोप है कि पुलिस के डीएसपी और उसके मातहतों ने उसे लात और डंडों से केवल इस वजह से पीटा क्योंकि वो उनकी वीडियो बना रहा था। इस घटना के एक महीने बाद बुधवार को आरोपी पुलिस अधिकारी रिश्वत के एक मामले सस्पेंड हो गया, इसके बाद ही यह वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ।

भाजपा का स्थानीय नेता है पीड़ित शख्स
जालना पुलिस द्वारा बेरहमी से पीटे गए युवक का नाम शिवराज नारिलवाले है और वह भाजपा की युवा मोर्चा का जिला महासचिव है। आरोप है कि 9 मई को एक कोरोना मरीज की जालना के एक निजी अस्पताल में मौत हो गई थी। जिसके बाद कुछ लोगों ने अस्पताल में हंगामा किया, उस समय शिवराज भी हंगामा करने वाले लोगों के साथ शामिल था। पुलिस ने उसे जब पकड़ा तो वह हंगामे के बाद अपने फोन से वीडियो बना रहा था।

पुलिसकर्मी की मार से गंभीर रूप से घायल हुआ भाजपा नेता
शिवराज ने आरोप लगाया है कि पुलिस वाले भीड़ पर लाठीचार्ज कर रहे थे और वे अपने कैमरे से इस घटना को शूट कर रहे थे। यह बात डिप्टी SP किरडकर को नागवार लगी और उन्होंने शिवराज की बुरी तरह से पिटाई कर दी। शिवराज ने बताया कि पुलिस वालों की मार के बाद वे गंभीर रूप से घायल हो गए थे और कुछ दिन उन्होंने हॉस्पिटल में भी बिताया है।

इस मामले में पुलिस की सफाई
भाजपा नेता की पिटाई के मामले में कदीम जालना पुलिस थाने के इंस्पेक्टर प्रशांत महाजन ने कहा 9 अप्रैल की रात को यहां के एक निजी अस्पताल में मरीज की मौत हो गई थी, जिसके बाद उसके परिजनों ने अस्पताल में तोड़फोड़ की। अस्पताल के डॉक्टर ने पुलिस से संपर्क किया और कुछ ही देर में पुलिस अस्पताल पहुंच गई। वहां उत्पात मचाने वाले लोगों पर पुलिस ने बल प्रयोग कर खदेड़ दिया। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस अस्पताल मे उत्पात करने वाले लोगों को अस्पताल से बाहर नहीं करती तो अस्पताल में काफी बड़ा नुकसान हो सकता था।

वीडियो की टाइमिंग को लेकर भी खड़े हुए सवाल
अब वीडियो की टाइमिंग को लेकर भी सवाल उठने लगा है।यह भी सवाल उठाया जा रहा है कि इतनी बेरहमी से पिटाई के बावजूद शिवराज ने कोई भी शिकायत क्यों नहीं दर्ज करवाई। बुधवार को डिप्टी SP किरडकर को रिश्वत लेने के आरोप में सस्पेंड कर दिया गया था, जिसके बाद अचानक यह वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने लगा। वीडियो सामने आने के बाद लोगों की नाराजगी सोशल मीडिया पर भी देखी जा रही है।