पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Maharashtra Lockdown; Mumbai Pune Coronavirus Cases Update | Maharashtra Nagpur Nashik Corona Cases District Wise Today News 8 April

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महाराष्ट्र में कोरोना:वैक्सीन की कमी के चलते मुंबई में 26 सेंटर्स पर टीकाकरण रुका; राज्य में हालात बिगड़ते देख केंद्र ने 30 टीमें भेजीं

मुंबई5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

महाराष्ट्र में कोरोना महामारी का संक्रमण तेजी से अपने नए पीक की ओर बढ़ रहा है। यहां बिगड़ते हालात को देखते हुए केंद्र सरकार ने 30 विशेषज्ञ मेडिकल टीमें अलग-अलग जिलों के लिए रवाना की हैं। कोरोना विशेषज्ञों की ये टीम राज्य में कोविड से जूझ रहे अधिकारियों को कोरोना कंट्रोल के लिए रणनीति बनाने में मदद करेंगे। इस बीच राज्य में वैक्सीन डोज खत्म होने की कगार पर हैं। मुंबई में 72 में से 26 प्राइवेट वैक्सीनेशन सेंटर पर टीकाकरण रोक दिया गया है। सातारा में भी आज टीका नहीं लगाया जा रहा है। राज्य सरकार के मुताबिक अब महाराष्ट्र में केवल एक से दो दिन के ही डोज बचे हैं।

पिछले 24 घंटे में अब तक के सबसे ज्यादा 59,907 मामले सामने आए। इसके साथ ही कुल केस बढ़कर 31,73,261 हो गए। राज्य इस दौरान 322 कोरोना संक्रमितों की मौत दर्ज की गई। महाराष्ट्र में कोरोना से मरने वालों की कुल संख्या अब 56,652 पर पहुंच गई।

महाराष्ट्र में खत्म होने वाला है वैक्सीन का स्टॉक
प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) प्रदीप व्यास ने बताया कि बुधवार की सुबह तक राज्य में करीब 14 लाख वैक्सीन डोज थी। कई जिलों में आज या कल तक स्टॉक खत्म हो जाएगा। केंद्र को इस बात की जानकारी है और हमने लिखित में उन्हें बताया है।' उन्होंने बताया कि अगर शेड्यूल और वैक्सीन की उपलब्धता हो तो महाराष्ट्र में रोज आसानी से पांच लाख शॉट दिए जा सकते हैं। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी बताया कि राज्य को 40 लाख डोज एक सप्ताह में जरूरी है। हम दिन 4-5 लाख लोगों को वैक्सीन दे रहे हैं, ऐसे में अगर वैक्सीन नहीं मिली तो बड़ी समस्या हो सकती है। टोपे ने कहा, 'हम सेंटर के 6 लाख डोज हर दिन लगाने के चैलेंज को स्वीकार करते हैं, लेकिन वैक्सीन होनी तो चाहिए।'

स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा- महाराष्ट्र के लोगों से भेदभाव हो रहा
महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने गुरुवार को कहा- कुछ देर पहले मेरे पास वॉट्सऐप पर एक मैसेज भेजा गया है, इसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार हमें सिर्फ 7.5 लाख वैक्सीन के डोज दे रही है। जबकि उत्तर प्रदेश को 48 लाख, मध्यप्रदेश को 40 लाख और अन्य राज्यों को भी लगभग इतनी ही डोज दी गई है। मेरा सवाल यह है कि महाराष्ट्र के साथ ऐसा भेदभाव क्यों किया जा रहा है?

इस मामले को लेकर मैंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से तुरंत बात की। NCP चीफ शरद पवार ने भी उनसे बात की। मैंने उन्हें बताया कि 12 करोड़ की जनसंख्या के लिए यह वैक्सीन कहां तक उचित है? इसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने मुझे आश्वासन दिया है कि इस मामले में जल्द करेक्शन किया जाएगा।

स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने कहा कि हर महीने 1.6 करोड़ और हर सप्ताह 40 लाख वैक्सीन की डोज चाहिए। हम चाहते हैं कि दूसरे देशों को मदद करने की जगह केंद्र सरकार महाराष्ट्र की मदद के लिए आगे आए। केंद्र सरकार हमें मदद कर रही है लेकिन जैसी हमें चाहिए वैसी नहीं। गुजरात की जनसंख्या महाराष्ट्र से आधी है और वहां पर 1 करोड़ वैक्सीन की डोज दी गई है, जबकि महाराष्ट्र के लिए सिर्फ 1.04 लाख ही दी गई है। उन्होंने कहा कि हम रेमडेसिविर की कालाबाजारी रोकने के लिए सीधे इसकी निर्माता कंपनी से बात कर रहे हैं।

मुंबई में 26 प्राइवेट सेंटर्स पर रोका गया वैक्सीनेशन
मुंबई में बृहन्‍नमुंबई म्‍युनिसिपल कार्पोरेशन (BMC) ने कन्‍फर्म किया है कि मुंबई में कुल 120 वैक्सीनेशन सेंटर्स है, इसमें प्राइवेट सेंटर्स की संख्‍या 73 है, इसमें से 26 बंद हो गए हैं। बाकी 26 सेंटर आज शाम के बाद बंद होंगे। बचे हुए 21 टीके का स्टॉक खत्म होने के कारण शुक्रवार तक बंद हो जाएंगे। इनके अलावा 23 वैक्सीनेशन सेंटर नवी मुंबई में बंद हो चुके हैं।

टीके की कमी से सातारा में रोका गया वैक्सीनेशन
महाराष्ट्र के सातारा में बुधवार रात से कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम पर फिलहाल के लिए रोक लगा दी गई है। इसके पीछे बड़ा कारण कोरोना वैक्सीन की कमी को बताया जा रहा है। जिला प्रशासन की ओर से जिले में कोरोना वैक्सीन के खत्म होने का हवाला दिया है। इस बात की जानकारी देते हुए सतारा जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनय गौड़ा ने बताया कि सातारा में अब तक 45 साल से अधिक उम्र के 2.6 लाख लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है।

संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए धारावी में फिर से टेस्टिंग तेज हुई है।
संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए धारावी में फिर से टेस्टिंग तेज हुई है।

पुणे में 40 बेड देने को तैयार हुई इंडियन आर्मी
पुणे में कोरोना इस हद तक कंट्रोल से बाहर हो गया है कि जिला प्रशासन ने भारतीय सेना से मदद मांगी थी। पुणे में वैंटिलेटर्स और ऑक्सीजन बेड्स फुल हो चुके हैं। नए मरीजों को रखने के लिए बेड्स नहीं हैं। ऐसे में पुणे के आर्मी हॉस्पिटल को सामान्य नागरिकों के लिए उपलब्ध कराने की मांग की गई। जिसे आर्मी ने मानते हुए 20 बेड्स देने की बात कही है।

पुणे में होटल किराए पर लेने की नौबत आई
पुणे में मरीजों को अस्पतालों में रखने की जगह नहीं हैं। उन्हें रखने के लिए होटलों को किराए पर लिया जा रहा है। कोरोना संक्रमण इतनी तेजी से बढ़ रहा है कि सारे बेड्स पहले से ही फुल हो चुके हैं। पुणे में पिछले 15 दिनों में हर रोज चार हजार नए केस सामने आ रहे हैं। पुणे के रूबी अस्पताल द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, अस्पताल ने तीन होटल को किराए पर लिया है और वहां 180 बेड्स की व्यवस्था की जा सकी है। जो हाल रूबी अस्पताल का है वैसा ही हाल पुणे के सरकारी अस्पतालों और अन्य अस्पतालों का भी है।

महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की भारी किल्लत होने वाली है
राज्य की खाद्य और दवा नियामक (FDA) ने आने वाले दिनों में ऑक्सीजन की कमी को लेकर आशंकाएं जाहिर की हैं। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने FDA को यह सूचित किया है कि अप्रैल महीने के आखिर तक महाराष्ट्र में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 9 लाख तक पहुंच सकती है। इसी के साथ ऑक्सीजन की मांग भी दोगुनी हो जाएगी। फरवरी महीने में महाराष्ट्र के अस्पतालों में जहां 150 से 200 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत थी तो वहीं यह मांग मार्च के आखिर तक बढ़कर 650 से 750 मीट्रिक टन तक पहुंच गई है। 6 अप्रैल को महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की खपत बढ़कर 777 मीट्रिक टन पहुंच गई। महाराष्ट्र में प्रतिदिन ऑक्सीजन उत्पादन की अधिकतम क्षमता 1250 मीट्रिक टन है। फिलहाल महाराष्ट्र हर दिन 30 से 50 मीट्रिक टन ऑक्सीजन गुजरात से लेता है और जल्द ही छत्तीसगढ़ से भी उसे हर दिन 50 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिलेगा।

मुंबई में गाड़ियों को रोक कर एंटीजन टेस्ट किया जा रहा है।
मुंबई में गाड़ियों को रोक कर एंटीजन टेस्ट किया जा रहा है।

लॉकडाउन के लिए CM ने मांगा दो दिन का टाइम
राज्य में फिर से लॉकडाउन लगाए जाने से आक्रोशित व्यापारियों के साथ वर्चुअल बैठक में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लॉकडाउन के मुद्दे पर दो दिन का समय मांगा। उन्होंने कहा कि कुछ जिम्मेदारी व्यापारियों को भी उठानी होगी और उन्हें बढ़ते संक्रमण को रोकने और कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सरकार के साथ मिलकर काम करना होगा। मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि सभी को एकजुट होना चाहिए और इस लड़ाई को जीतने के लिए एक साथ काम करना चाहिए। सरकार का इरादा व्यापारियों का नुकसान करना नहीं बल्कि उनके हितों की रक्षा करना है, लेकिन यह स्थिति विकट है। इसलिए लॉकडाउन का कठोर निर्णय लेना पड़ रहा है।

9वीं और 11वीं के छात्रों को किया जाएगा प्रमोट
महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए साल भर से स्कूल बंद थे। राज्य में स्कूलों के अंदर ऑनलाइन तरीके से बच्चों को पढ़ाई करवाई जा रही थी। इस बार 11वीं कक्षा में एडमिशन की शुरुआत काफी देर से हुई थी। अब कोरोना के बढ़ते केस को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने ऐलान किया है कि नौवीं और 11वीं कक्षाओं के छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया जाएगा। इससे पहले पहली से आठवीं तक के छात्रों को प्रमोट करने का आदेश सरकार ने दिया था।

सार्वजनिक स्थलों पर थूकने पर लगाई जाए रोक: अदालत
बॉम्बे हाईकोर्ट ने बुधवार को महाराष्ट्र सरकार और BMC को सार्वजनिक स्थानों पर थूकने की समस्या पर रोक लगाने के लिए उपयुक्त कदम उठाने का निर्देश दिया। मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपांकर दत्त और न्यायमूर्ति जी एस कुलकर्णी की खंडपीठ ने सड़क पर थूकने वालों के खिलाफ जुर्माने की राशि को 200 से बढ़ाकर 1200 करने को कहा। अदालत ने सवाल किया, ‘‘आजकल 200 रुपए का महत्व ही क्या है? आप राजस्व का नुकसान उठा रहे हैं। थूकने की यह आदत रोकने की जरूरत है।’’

कोरोना के खतरे को देखते हुए BMC के कर्मचारी अब फिर से स्टेशनों पर चेकिंग अभियान चला रहे हैं।
कोरोना के खतरे को देखते हुए BMC के कर्मचारी अब फिर से स्टेशनों पर चेकिंग अभियान चला रहे हैं।

मुंबई में लगातार दूसरी बार मिले 10 हजार से ज्यादा मरीज
मुंबई में बुधवार को संक्रमण के 10,428 नए मामले सामने आए और 23 और लोगों की इसकी वजह से मौत हो गई। इसे लेकर मुंबई में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 4,82,760 और मृतकों का आंकड़ा 11,851 पर पहुंच गया है। यह लगातार दूसरा दिन है जब शहर में संक्रमण के 10,000 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। इस महीने में यह तीसरी बार है जब मामले 10 हजार के आंकड़े को पार कर गए हैं। मुंबई में वर्तमान समय में 81,886 एक्टिव पेशेंट हैं। मुंबई में कोविड-19 से स्वस्थ होने वालों की दर घटकर 80 प्रतिशत हो गई है जबकि संक्रमण की कुल दर बढ़कर 1.91 प्रतिशत हो गई है तथा अब 35 दिन में संक्रमण के मामले दोगुना हो रहे हैं।

मुंबई में 789 इमारतों को अब तक सील किया गया
मुंबई में 72 कंटेनमेंट जोन हैं, जहां 789 इमारतों को सील कर दिया गया है। BMC ने बुधवार को एक आदेश जारी कर कोरोनावायरस के चलते लगाई गई पाबंदियां जारी रहने के दौरान भोजन एवं आवश्यक सामान की आपूर्तियों की ऑनलाइन सेवा प्रदाताओं के माध्यम से हफ्ते के सभी दिन होम डिलिवरी की अनुमति दी। महानगरपालिका ने वीकेंड लॉकडाउन के दौरान सड़क किनारे लगने वाले भोजन के ठेलों को पार्सल देने और खान पैक कराकर ले जाने की अनुमति भी दी है।

मुंबई में कोरोना की नई गाइडलाइन

  • वीकेंड में सार्वजनिक स्‍थानों पर सुबह 7 बजे से रात 8 बजे तक पांच लोगों से अधिक की आवाजाही की अनुमति नहीं।
  • वीकेंड में रात 8 बजे से सोमवार सुबह सात बजे तक आवश्‍यक सेवाओं को छोड़कर अन्‍य किसी भी तरह की आवाजाही प्रतिबंधित रहेगी।
  • समुद्र तट (Sea Beach) 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे।
  • गार्डन और सार्वजनिक मैदानों में सुबह 7 बजे से रात 8 बजे तक पांच से अधिक लोगों को जाने की अनुमति नहीं होगी।
  • आवश्‍यक सेवाओं को छोड़कर दुकानें, बाजार व मॉल पूरी तरह से बंद रहेंगे।
  • आवश्‍यक सेवाएं हमेशा चालू रहेंगी।
  • निजी कार्यालय बंद रहेंगे (आवश्यक सेवाओं को छोड़कर)
  • फिल्म और टीवी शूटिंग के लिए शर्तों के साथ अनुमति दी गई है।
  • धार्मिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक कार्यों पर प्रतिबंध रहेगा।
  • मनोरंजन सेवाएं (सिनेमा, थिएटर, ऑडिटोरियम, आर्केड, वाटर पार्क, क्लब, स्विमिंग पूल, जिम, खेल परिसर) बंद रहेंगे।

सार्वजनिक परिवहन के लिए नियम

  • ऑटो रिक्शा में चालक समेत दो सवारी।
  • टैक्सी में चालक + 50% क्षमता।
  • बस में बैठने की पूरी क्षमता, कोई खड़ा नहीं होगा
  • ट्रेन / बस / फ्लाइट द्वारा आने-जाने वाले व्यक्ति हर समय यात्रा कर सकते हैं।
  • प्राइवेट बसों / वाहनों से यात्रा करने वाले औद्योगिक श्रमिक वैध आईडी कार्ड का उपयोग करके हर समय यात्रा कर सकते हैं।
मुंबई की सील हुई सोसाइटियों में जाकर BMC के लोग जांच कर रहे हैं।
मुंबई की सील हुई सोसाइटियों में जाकर BMC के लोग जांच कर रहे हैं।

कम टीकाकरण को लेकर केंद्र का राज्य को पत्र
केंद्र ने महाराष्ट्र को स्वास्थ्यकर्मियों समेत सभी योग्य लाभार्थियों के औसत से कम टीकाकरण पर पत्र लिखा है। राज्य के प्रधान सचिवों को एक पत्र में अतिरिक्त स्वास्थ्य सचिव मनोहर अग्नानी ने उल्लेख किया है कि इन राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश का प्रदर्शन राष्ट्रीय औसत से नीचे है और इसमें सुधार की जरूरत है। अग्नानी के इस पत्र के पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कड़ी टिप्पणी में महाराष्ट्र तथा कुछ अन्य राज्यों पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि वे योग्य लोगों का टीकाकरण किए बिना टीके की मांग कर अपनी नाकामी को छिपाने का प्रयास कर रहे हैं और लोगों के बीच दहशत फैला रहे हैं। बता दें कि महाराष्ट्र में सिर्फ 83% स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना की पहली डोज दी गई है।

भाजपा को भुगतना होगा गंभीर परिणाम: नाना पटोले
टीकाकरण के लिए आयु वर्ग का दायरा बढ़ाने की मांग खारिज करने को लेकर महाराष्ट्र कांग्रेस ने बुधवार को केंद्र सरकार की आलोचना की। साथ ही, कांग्रेस ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार महाराष्ट्र के प्रति सहयोग का रवैया नहीं अपना रही है, जो देश में महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि यदि महाराष्ट्र को कोविड-19 टीके की पर्याप्त खुराक की आपूर्ति नहीं की जाती है तो केंद्र और भाजपा को इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति पूर्णतः अनुकूल है। बातचीत के माध्यम से आप अपने काम निकलवाने में सक्षम रहेंगे। अपनी किसी कमजोरी पर भी उसे हासिल करने में सक्षम रहेंगे। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और...

और पढ़ें