महाराष्ट्र में जानलेवा मौज-मस्ती:प्रतिबंध के बावजूद हजारों की संख्या में नियम तोड़ अंबोली, पालघर और त्र्यंबकेश्वर पहुंचे पर्यटक, सैकड़ों लोगों पर दर्ज हुआ केस

मुंबई4 महीने पहले
यह तस्वीर पालघर के ऐतिहासिक अशेरी गढ़ की है। रविवार को यहां हजारों की संख्या में लोग पहुंचे थे।

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में पिछले कुछ दिनों के दौरान भारी कमी देखने को मिल रही है। यहां बारिश का मौसम भी जारी है। इस मौसम में बड़ी संख्या में लोग राज्य के पर्यटन स्थलों पर घूमने के लिए जाते हैं। संक्रमण की तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए राज्य में ऐसे स्थलों पर जाने की पाबंदी है, इसके बावजूद हजारों की संख्या में लोग रविवार को यहां घूमने के लिए पहुंचे।

बरसात के मौसम में अंबोली और पालघर के पहाड़ी क्षेत्रों में हजारों की संख्या में पर्यटक घूमने के लिए पहुंचते हैं।
बरसात के मौसम में अंबोली और पालघर के पहाड़ी क्षेत्रों में हजारों की संख्या में पर्यटक घूमने के लिए पहुंचते हैं।

महाराष्ट्र के पालघर, अंबोली और त्र्यंबकेश्वर से बेहद डराने वाली तस्वीरें सामने आई है। यहां कई हजार लोग सोशल डिस्टेंसिंग के नियम तोड़ते हुए एक जगह जमा हुए। इस दौरान सैकड़ों लोग बिना मास्क के भी नजर आए। इसकी तस्वीरें और वीडियो सामने आने के बाद अब जिला प्रशासन नियम तोड़ने वालों के खिलाफ केस दर्ज करने में जुट गई है।

लोगों ने जमकर तोड़े कोरोना के नियम
महाराष्ट्र के चेरापूंजी कहे जाने वाले 'अंबोली' में पर्यटन फिलहाल प्रतिबंधित है। जो वीडियो सामने आये हैं, उसमें लोग एक दूसरे से चिपक कर चलते हुए और पहाड़ी की चढ़ाई करते हुए नजर आ रहे हैं। अंबोली थाने के इंस्पेक्टर बाबू तेली ने बताया कि आज अंबोली में दस पर्यटकों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की गई है। जो लोग अंबोली घूमने के लिए आये हैं, उनमें बड़ी संख्या सांगली, कोल्हापुर, सतारा और गोवा के पर्यटकों की है। ये लोग यहां के मुख्य झरने पर घूमने और यहां नहाने के लिए आये थे।

अंबोली में हजारों की संख्या में लोग इस तरह से घूमने के लिए पहुंचे थे।
अंबोली में हजारों की संख्या में लोग इस तरह से घूमने के लिए पहुंचे थे।

पालघर में 100 से ज्यादा वाहनों पर हुई कार्रवाई
अंबोली में हर साल 400 मिमी से अधिक वर्षा होती है। संक्रमण काल से पहले यहां हर दिन हजारों लोग घूमने के लिए आते थे, लेकिन अब स्थिति असामन्य हो चुकी है। पालघर के ऐतिहासिक अशेरी गढ़ में भी कई हजार लोग ट्रैकिंग के लिए पहुंचे थे। यहां भी भीड़ पर कार्रवाई करते हुए 100 से ज्यादा वाहनों पर कार्रवाई हुई है। पालघर लेवल तीन शहर की श्रेणी में आ रहा है। यानी यहां पाबंदी के साथ चीजों को खोला जा रहा है। हालांकि, पर्यटन यहां पूरी तरह से बंद है। तकरीबन 800 साल पुराने इस किले में राजा बिंबदेव रहा करते थे। बाद में इस पर मराठा, पुर्तगाली और ब्रिटिश शासकों का भी कब्जा रहा।

त्र्यंबकेश्वर पुलिस द्वारा धारा 188 के तहत कार्रवाई
बारिश के साथ ही नासिक के पर्यटन स्थलों पर भी पर्यटकों की भीड़ उमड़ पड़ी है। भीड़ को देखते हुए रविवार को त्र्यंबकेश्वर पुलिस ने 32 पर्यटकों के खिलाफ धारा 188 के तहत कार्रवाई की है। भीड़ को रोकने के लिए त्र्यंबकेश्वर-घोटी हाईवे को पुलिस ने बंद कर दिया है।

खबरें और भी हैं...