• Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Maharashtra Mantralaya Alcohol Bottle News: Liquor Bottles Have Been Found In Duct Area Of Canteen In Mantralaya Building Premises

मंत्रालय या मधुशाला:महाराष्ट्र से सबसे हाई सिक्यूरिटी जोन से बरामद हुईं शराब की बोतलें, भाजपा ने कहा-यह नशेड़ी सरकार है

मुंबई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीजेपी की नेता चित्रा वाघ ने महाविकास अघाड़ी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह नशेड़ी सरकार है। - Dainik Bhaskar
बीजेपी की नेता चित्रा वाघ ने महाविकास अघाड़ी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह नशेड़ी सरकार है।

मंगलवार को मंत्रालय की बिल्डिंग से शराब की कई खाली बोतलें बरामद हुईं हैं। इन्हें कैंटीन के पास डक एरिया में खाली कर फेंका गया था। बोतल मिलने की जानकारी मिलते ही प्रशासन एक्टिव हो गया और आननफानन में उन्हें वहां से हटाया गया। हालांकि, इस घटना की जानकारी विपक्ष यानी भाजपा नेताओं को जैसे ही हुई, इसपर राजनीति शुरू हो गई। विपक्ष ने शराब की बोतलों के बहाने महाविकास अघाड़ी सरकार पर निशाना साधा।

भाजपा ने कहा-यह नशेड़ी सरकार है
बीजेपी की नेता चित्रा वाघ ने महाविकास अघाड़ी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह नशेड़ी सरकार है। उन्होंने कहा कि अब पता चला कि आखिर क्यों ठाकरे सरकार ने सबसे पहले दारू की दुकानें खोलने की इजाजत दी थी। राज्य में अभी तक मंदिर बंद हैं लेकिन शराब की दुकानें खुली हुई हैं।

चित्रा वाघ ने कहा कि जिस मंत्रालय को सबसे सुरक्षित माना जाता है। जहां दाखिल होने के लिए कई सुरक्षा जांचों से होकर गुजरना पड़ता है। वहां यह शराब की बोतलें कैसे पहुंची। इसका जवाब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को राज्य की जनता को देना होगा।

यह एक परेशान करने वाली और शर्मनाक घटना: प्रवीण दारेकर
प्रवीण दारेकर ने कहा, 'मंत्रालय में शराब की बोतलें मिलना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण, परेशान करने वाला और शर्मनाक है। एक तरफ तो मंत्रालयों तक आम आदमी नहीं पहुंच सकता, ऐसे में शराब की बोतलें यहां कैसे पहुंच सकती हैं। मंत्रालय में शराब की बोतलें कौन लाया और किसके लिए आईं हैं? इन सभी मामलों की जांच होनी चाहिए और इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।'

जलगांव के सरकारी ऑफिस में हुई थी दारु पार्टी
कुछ दिन पहले जलगांव के सरकारी दफ्तर में दिन दहाड़े सरकारी कर्मचारियों की दारू पार्टी का वीडियो वायरल हुआ था। जिसपर कार्रवाई के आदेश मिनिस्टर गुलाबराव पाटिल ने दिए थे।