• Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Lalbaugcha Raja Ganeshotsav | Maharashtra Mumbai Coronavirus News Update; Lalbaugcha Raja Mandal not to hold Ganeshotsav in wake of pandemic

कोरोना का असर / 86 साल में पहली बार स्थापित नहीं होगी लालबाग के राजा की प्रतिमा, इसकी जगह लगेगा ब्लड और प्लाज्मा डोनेशन कैंप

पिछले साल लालबाग के राजा को स्पेस थीम पर स्थापित किया गया था। यहां सर साल बॉलीवुड के सेलेब्रिटीज दर्शन के लिए आते हैं।
X

  • सीएम ठाकरे ने भी इस बार सिर्फ 4 फीट के गणपति स्थापित करने का निर्देश गणेश मंडलों को दिया था
  • लालबाग के राजा को सेलेब्रिटी गणपति की संज्ञा भी दी जाती है, हर साल यहां लाखों की संख्या में भक्त और बॉलीवुड सेलेब्रिटीज दर्शन के लिए आते हैं।

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 09:06 PM IST

मुंबई. लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए पंढरपुर की वारी यात्रा की तरह ही गणेशोत्सव भी फीका रहने वाला है। महामारी के कारण विश्व प्रसिद्ध 'लालबाग च राजा' (लालबाग के राजा) गणपति मंडल ने इस बार गणेशोत्सव नहीं मनाने का फैसला किया है। 86 साल के इतिहास में यह पहली बार है जब लालबाग के राजा की स्थापना नहीं होगी। सीएम ठाकरे ने भी इस बार सिर्फ 4 फीट के गणपति स्थापित करने का निर्देश गणेश मंडलों को दिया था। बता दें कि महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 1 लाख 75 हजार के करीब पहुंच गया है। 

'लालबाग च राजा' गणपति मंडल की ओर से बताया गया कि इसके स्थान पर ब्लड और प्लाज्मा दान शिविर लगाया जाएगा। लालबाग च राजा को सेलेब्रिटी गणपति की संज्ञा भी दी जाती है। हर साल यहां लाखों की संख्या में भक्त और बॉलीवुड सेलेब्रिटीज दर्शन के लिए आते हैं। हर साल अलग-अलग थीम पर बनने वाले गणपति आकर्षण का मुख्य केंद्र होते हैं।

अंबानी परिवार भी लगभग हर साल लालबाग के राजा के दर्शन के लिए यहां आता है-फाइल फोटो।

सीएम रिलीफ फंड में डोनेट किए जाएंगे पैसे
मंडल के सेक्रेट्री सुधीर साल्वी ने कहा है,"इस बार गणेशोत्सव मनाने की जगह हम सीएम रिलीफ फंड में पैसे जमा करवाएंगे। इसके अलावा हम एलओसी और एलएसी पर शहीद हुए सैनिकों के परिवार वालों को भी आर्थिक मदद दी जाएगी।"

इसलिए लिया गया उत्सव रद्द करने का फैसला
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सभी मंडलों को आदेश दिया था कि इस साल गणपति उत्सव हर साल की तरह न मनाया जाए, क्योंकि इसमें बड़ी तादाद में लोग जमा होते हैं। साथ ही उन्होंने कहा था कि गणपति की मूर्ति की ऊंचाई 4 फीट तक ही रखी जाए। मंडल के अधिकारियों का कहना है कि गणपति की लंबाई कम नहीं की जा सकती है। अगर छोटी मूर्ति भी लाई जाती है तो बप्पा के दर्शन के लिए बड़ी तादाद में लोग जमा होंगे। ऐसे में लोगों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए इस साल न ही कोई मूर्ति होगी, न ही मूर्ति विसर्जन किया जाएगा।

पिछले साल लालबाग के राजा का 51 करोड़ का बीमा कवर था 
साल 2019 में लालबाग के राजा का 51 कोरोड़ कवर का बीमा हुआ था। मुंबई में सबसे ज्यादा दान इन्हें मिलता है। साल 2018 में यहां 12 करोड़ रुपए दान में चढ़ाए गए थे। दान में मिली वस्तुओं की नीलामी से 1 करोड़ 58 लाख रु. मिले थे। 

महानायक अमिताभ बच्चन भी हर साल यहां परिवार के साथ दर्शन के लिए आते हैं-फाइल फोटो।

बाल गंगाधर ने की गणेश उत्सव की शुरुआत

गणेश उत्सव की शुरूआत बाल गंगाधर तिलक द्वारा उस समय की गई थी, जब भारत अंग्रेजों की गुलामी से आजाद होने के लिए संघर्ष कर रहा था। उस दौर में सभी भारतीयों को एक साथ इकट्ठा करने के लिए गणेश उत्सव शुरू किया गया था। सार्वजनिक स्थानों पर बड़े-बड़े पंडाल बनाए जाते थे, जहां सभी भारतीय एकत्र होकर स्वतंत्रता संग्राम के लिए चर्चा किया करते थे। सन् 1934 से हर वर्ष मुंबई के लाल बाग इलाके में लाल बाग के राजा की विशाल प्रतिमा स्थापित की जाती है।

व्यापारियों ने बनाया पंडाल

एक जमाने में मुंबई के लाल बाग के व्यापारियों का कारोबार घाटे में चलता था। व्यापारी चाहते थे कि लाल बाग के एक खुली जगह पर भी बाजार लगे। कहते हैं इसी इच्छा के साथ कुछ व्यापारियों ने लाल बाग के राजा के पंडाल की स्थापना की थी। लाल बाग के राजा की मूर्ति स्थापित हो जाने के बाद व्यापारियों की मनोकामना पूरी होने में वक्त नहीं लगा। इसके बाद से ही यहां लाल बाग के राजा की स्थापना हर साल होने लगी। लाल बाग के गणपति का उत्सव साल दर साल और भव्य होता जा रहा है।

हर साल बप्पा की विसर्जन यात्रा में लाखों लोग शामिल होते हैं। 

1 लाख 74 हजार के पार हुई कोरोना संक्रमितों की संख्या

पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य में 4878 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इसे लेकर कुल संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1 लाख 74 हजार 761 पहुंच गया है। पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में 245 लोगों की मौत हुई है। अब तक कुल 7855 लोग अपनी जान कोरोना के चलते गंवा चुके हैं। महाराष्ट्र में आज 1951 कोरोना संक्रमित ठीक होकर घर भी गए हैं। इसी के साथ कुल ठीक होने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर 90911 तक पहुंच गई है। राज्य में रिकवरी रेट 52.02% है।   

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना