कश्मीर नहीं यह है विदर्भ:जहां साल भर पड़ा रहता है सूखा, उस यवतमाल में ओलावृष्टि के बाद सड़कों का कुछ ऐसा हुआ हाल; हुई भारी तबाही

यवतमालएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
यवतमाल में चारों ओर इसी तरह ओले की मोती चादर नजर आ रही है। - Dainik Bhaskar
यवतमाल में चारों ओर इसी तरह ओले की मोती चादर नजर आ रही है।

लगभग पूरे साल सूखे की मार झेलने वाले विदर्भ के यवतमाल में मौसम ने करवट ले ली है। पिछले 24 घंटों के दौरान यहां भीषण बारिश और ओलावृष्टि हुई है। बेमौसम बारिश ने सबसे ज्यादा जिले के बाभुलगांव और नेर तहसील में तबाही मचाई है। ओलावृष्टि से खेत में खड़ी फसल बर्बाद हो गई है।

यवतमाल शहर और ग्रामीण इलाकों में हुई बारिश ने खेतों में उग आयी चने और गेहूं की फसल को नुकसान पहुंचाया है। इसके अलावा जिले के दारव्हा, पुसद, उमरखेड़ समेत कुछ इलाकों में ठंडी हवाओं के साथ बेमौसम बारिश होने की जानकारी मिली। इसी बीच ओलावृष्टि और बारिश से रबी फसल को नुकसान का प्रशासनिक स्तर पर जायजा लेने की कार्रवाई शुरू की गयी है।

भारी बारिश और ओलावृष्टि से इलाके में फसलों का बड़ा नुकसान हुआ है।
भारी बारिश और ओलावृष्टि से इलाके में फसलों का बड़ा नुकसान हुआ है।

कई जगहों पर बड़े-बड़े आकार के ओले गिरे हैं, जिससे रबी की गेहूं, चने, तुअर की फसल को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा है। इसके अलावा पपीते, केले, मोसंबी, संतरा और सब्जी की फसल समेत तहसील के कुछ मकानों को भी नुकसान पहुंचाया है।

बारिश के बाद इलाके में बड़े-बड़े आकार के ओला पड़े हैं।
बारिश के बाद इलाके में बड़े-बड़े आकार के ओला पड़े हैं।

बाभुलगांव में सर्वाधिक नुकसान
ओलावृष्टि से बाभुलगांव तहसील के गणोरी, आलेगांव, अंतरलगांव, दिघी, मुस्तफाबाद, वाटखेड़, नायगांव, कृष्णापुर, नागरगांव, पंचगव्हाण, चिमणपुर, पिंपरी ईजारा, इंदिरा नगर, नांदुरा खुर्द, मालापुर गांवों में भारी नुकसान हुआ है। ओलावृष्टि से हुए नुकसान की जानकारी बाभुलगांव तहसीलदार प्रशासन द्वारा प्राकृतिक आपदा विभाग जिलाधिकारी कार्यालय को दी गयी, जिसके बाद नुकसान पंचनामा और सर्वे करने के निर्देश दिए गए।

जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त
नेर तहसील के चिखली कान्होबा, पिंपरी, कलगांव में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि हुई इस दौरान जनजीवन बाधित हुआ, साथ ही यहां पर खेतों की फसलों को काफी नुकसान पहुंचने की खबर मिली, जबकि कलंब समेत इस तहसील के सावरगांव, टालेगांव तथा पिंपलखुटी इन गांवों में जोरदार बारिश होने से गेहूं, चने और तुअर की फसल को नुकसान पहुंचा।

खबरें और भी हैं...