महाराष्ट्र:लॉकडाउन और अनलॉक को लेकर बनी असमंजस की स्थिति को दूर करने के लिए सीएम ठाकरे और शरद पवार के बीच हुई बैठक

मुंबई2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राकांपा प्रमुख शरद पवार और सीएम उद्धव ठाकरे के बीच तकरीबन 2 घंटे तक मीटिंग चली है। इसमें राज्य के कई मुद्दों के साथ महाविकास अघाड़ी नेताओं के बीच सामंजस्य बैठाने के तरीकों पर भी चर्चा हुई है-फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
राकांपा प्रमुख शरद पवार और सीएम उद्धव ठाकरे के बीच तकरीबन 2 घंटे तक मीटिंग चली है। इसमें राज्य के कई मुद्दों के साथ महाविकास अघाड़ी नेताओं के बीच सामंजस्य बैठाने के तरीकों पर भी चर्चा हुई है-फाइल फोटो।
  • कंटेनमेंट जोन के 2 किलोमीटर के दायरे को लेकर भी किसी भी तरह का कोई आदेश गृह विभाग को नहीं मिला है
  • महाराष्‍ट्र सरकार ने मुंबई के ठाणे, मीरा रोड समेत कई इलाकों में सख्‍ती से लॉकडाउन लागू किया है
  • सरकार ने मुंबई के बाद पुणे में कोरोना के मरीज सबसे ज्‍यादा हैं लेकिन वहां राहत दी गई है

लॉकडाउन के बीच महाविकास अघाड़ी नेताओं के बीच खड़े हुए असमंजस को देखते हुए शुक्रवार को राकांपा अध्यक्ष शरद पवार और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बीच तकरीबन दो घंटे तक बैठक चली। सूत्रों के मुताबिक, इसमें सीएम ठाकरे के फैसलों पर दबी जबान में सवाल उठाने वाले नेताओं की चर्चा भी हुई। 

दो किलोमीटर गाड़ी नहीं ले जाने वाले फैसले पर रोक लग सकती है 
हालांकि, बैठक के बाद दोनों नेताओं की ओर से कोई भी आधिकारिक बयान नहीं सामने आया है। माना जा रहा है कि मुंबई में दो किलोमीटर के बाहर गाड़ी ले जाने पर जुर्माने वाले फैसले को लेकर दोनों नेताओं में चर्चा हुई है और इसे जल्द वापस लिया जा सकता है। 

कई डिपार्टमेंट को सीएम की ओर से नहीं मिले हैं निर्देश
असल में महाराष्‍ट्र सरकार ने मुंबई के ठाणे, मीरा रोड समेत कई इलाकों में सख्‍ती से लॉकडाउन लागू किया है। वहीं मुंबई के बाद पुणे में कोरोना के मरीज सबसे ज्‍यादा हैं लेकिन वहां राहत दी गई है। इसी तरह कंटेनमेंट जोन के 2 किलोमीटर के दायरे को लेकर भी किसी भी तरह का कोई आदेश गृह विभाग को नहीं मिला है। वर्तमान सरकार में गृह विभाग एनसीपी के पास है।

लॉकडाउन और अनलॉक को लेकर है कन्फ्यूजन
सरकार ने जो आदेश जारी किया है उसमें इसे लॉकडाउन कहा गया है, जबकि पहले सरकार ने ही इसे अनलॉक का नाम दिया था। अब इससे एनसीपी के मंत्रियों में असमंजस की स्थिति है कि यह किस तरह का लॉकडाउन है। इन सभी मुद्दों पर आपसी मतभेद दूर करने के लिए शरद पवार और उद्धव ठाकरे की बैठक को काफी अहम माना जा रहा है।