ड्रग्स केस में NCB Vs NCP:नवाब मलिक का आरोप- BJP के बड़े नेताओं के कहने पर क्रूज से 3 लोग छोड़े गए, NCB ने कहा- बदनाम करने की नीयत से लगाए आरोप

मुंबई15 दिन पहले
नवाब मलिक के मुताबिक, यह तस्वीर 2 अक्टूबर की है। इसमें ऋषभ सचदेवा (दाएं) अपने पिता के साथ NCB ऑफिस से निकलते हुए नजर आ रहे हैं।

मुंबई रेव पार्टी मामले में एक बार फिर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) नेता नवाब मलिक मीडिया के सामने आए और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) पर कई गंभीर आरोप लगाए। महाराष्ट्र सरकार में मंत्री मलिक ने शनिवार को कहा कि NCB ने टारगेट करके क्रूज पर छापा मारा और 1300 लोगों में से सिर्फ 11 लोगों को हिरासत में लिया था। इन्हें पकड़ने के बाद NCB ऑफिस लाया गया और इसमें से आर्यन, अरबाज और मुनमुन समेत 8 को अपने पास रखते हुए बाकी 3 आरोपियों को जाने दिया गया।

मलिक ने आरोप लगाया है कि जिन तीन लोगों को NCB ने छोड़ा उनमें एक भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष रह चुके मोहित कंबोज का साला ऋषभ सचदेवा भी है। अपनी बात की पुष्टि के लिए नवाब मलिक ने कुछ वीडियो और तस्वीरें भी जारी की हैं, जिसमें ऋषभ सचदेवा अपने पिता और चाचा के साथ NCB ऑफिस से निकलते हुए नजर आ रहे हैं। मलिक के मुताबिक, मोहित कंबोज ने अपना नाम बदल कर मोहित भारतीय कर लिया है।

14 में से 6 को सबूतों के अभाव में छोड़ा गया: NCB

मलिक के आरोपों के बाद NCB ने सफाई दी। जांच एजेंसी के DDG ज्ञानेश्वर सिंह ने कहा- NCB जो भी कार्रवाई करती है, वह एक स्पेसिफिक इंफॉर्मेशन के बाद की जाती है। यह इंफॉर्मेशन हमारे सोर्सेस या फिर पब्लिक की तरफ से दिए जाते हैं। नियम के मुताबिक, हर रेड में 2 इंडिपेंडेंट विटनेस को शामिल करते हैं। इस पूरे ऑपरेशन में कुल 9 इंडिपेंडेंट विटनेस शामिल किए गए। हमने 14 लोगों को शिप से पकड़ा था और उसमें से 6 लोगों को सबूतों के अभाव में छोड़ दिया गया।

एनसीबी के उप महानिदेशक ज्ञानेश्वर सिंह ने बताया कि हिरासत में पूछताछ के दौरान आरोपी व्यक्तियों द्वारा किए गए खुलासे के आधार पर हमने 6 जगहों पर रेड की और मुंबई के विभिन्न स्थानों से 10 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है।

मलिक के मुताबिक, ऋषभ सचदेवा भारतीय जनता युवा मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष मोहित कंबोज के साले हैं।
मलिक के मुताबिक, ऋषभ सचदेवा भारतीय जनता युवा मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष मोहित कंबोज के साले हैं।

मलिक के मुताबिक, आर्यन को ट्रैप करके शिप पर बुलाया गया
मलिक ने आगे कहा कि NCB प्रतीक गाबा और आमिर फर्नीचरवाला नाम के दो युवकों को भी हिरासत में लेकर NCB ऑफिस आई थी। अदालत में जब इस केस की सुनवाई चल रही थी तो इन दोनों के नाम को लेकर चर्चा हुई थी। आर्यन ने अपने बयान में कहा है कि इन दोनों के बुलाने पर ही वे क्रूज पर गए थे। मलिक ने आगे आरोप लगाया कि इससे साबित होता है कि इन दोनों ने ट्रैप करके आर्यन को क्रूज पर बुलाया था। इनके वीडियो जारी करते हुए मलिक ने कहा इन दोनों को भी NCB ने जाने दिया।

नवाब मलिक के मुताबिक, आर्यन खान और प्रतीक गाबा अच्छे दोस्त हैं और प्रतीक ने ही आर्यन को बुलाया था।
नवाब मलिक के मुताबिक, आर्यन खान और प्रतीक गाबा अच्छे दोस्त हैं और प्रतीक ने ही आर्यन को बुलाया था।

NCB से तीनों को पकड़ने और छोड़ने का कारण बताने को कहा
नवाब मलिक ने NCB चीफ समीर वानखेड़े के काम करने के तरीके पर सवाल उठाते हुए पूछा है कि समीर वानखेड़े को सामने आकर बताना चाहिए कि उन्होंने इन तीनों को क्यों पकड़ा और फिर इन्हें क्यों छोड़ दिया गया। मलिक ने यह भी कहा है कि उनके पास इसके पुख्ता सबूत हैं कि ऋषभ सचदेवा को छोड़ने के लिए दिल्ली से लेकर महाराष्ट्र तक के नेताओं ने फोन करके आदेश दिया था। मलिक ने आगे कहा, 'हम मांग करते हैं कि वानखेड़े इसका खुलासा तत्काल रूप से करें। जब पूरी जांच वॉट्सऐप चैट पर आगे बढ़ रही है, तो क्या NCB ने इनके रिकॉर्ड्स को खंगाला।'

NCB ऑफिस से बाहर निकलता हुआ आमिर फर्नीचरवाला।
NCB ऑफिस से बाहर निकलता हुआ आमिर फर्नीचरवाला।

CM उद्धव ठाकरे से इस पूरे मामले की जांच करवाने का आग्रह किया
मलिक ने आगे कहा कि छापेमारी का काम पूरी तरह से फर्जीवाड़ा है, सेलिब्रिटी को बुलाने के लिए यह प्लान किया गया था। उन्होंने कहा कि हम CM उद्धव ठाकरे से इस संबंध में जांच करवाने का आग्रह करते हैं। हम मुंबई और महाराष्ट्र की पुलिस, एंटी नारकोटिक्स सेल से भी मांग करेंगे कि इन सभी के कॉल डिटेल निकाले जाएं और इस मामले की स्वतंत्र जांच होनी चाहिए। समीर वानखेडे के भी कॉल डिटेल निकाले जाएं। वानखेड़े को यह बताना होगा कि उनके चाचा और पिताजी कैसे NCB ऑफिस में गए और अपने साथ अपने बेटे को लेकर निकले।"
.