ड्रग्स केस में नया ट्विस्ट:NCB की SIT टीम ने छोड़े 3 केस; अब सिर्फ आर्यन, समीर खान और अरमान कोहली केस की करेगी जांच

मुंबईएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इन मामलों की जांच  NCB के DDG, ऑपरेशन संजय सिंह कर रहे हैं। - Dainik Bhaskar
इन मामलों की जांच  NCB के DDG, ऑपरेशन संजय सिंह कर रहे हैं।

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम ने मादक पदार्थों से जुड़े 6 में से 3 केस छोड़ने का निर्णय लिया है। अब SIT सिर्फ क्रूज ड्रग्स केस, नवाब मलिक के दामाद समीर खान का ड्रग्स मामला और अभिनेता अरमान कोहली के केस की जांच करेगी।

NCB के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, 'SIT अब केवल इन तीन मामलों की जांच करेगी। जबकि शुरू में छह मामले SIT को हस्तांतरित किए गए थे, यह पता चला कि शेष तीन मामलों में कोई विदेशी संबंध मौजूद नहीं थे और उन्हें NCB जांच से हटा दिया गया था। जिन तीन मामलों को छोड़ दिया गया, उनमें आरोपियों में कोई जाना-पहचाना व्यक्ति नहीं था। तीनों मुंब्रा, जोगेश्वरी और नागपाड़ा में छोटी नशीली दवाओं की बरामदगी से संबंधित मामले मुंबई में दर्ज किए गए थे।'

पहले इन 6 ड्रग्स केस की जांच कर रही थी SIT

1) क्रूज ड्रग्स केस (आर्यन खान केस)।

2) समीर खान केस (नवाब मलिक के दामाद का केस)।

3) अभिनेता अरमान कोहली ड्रग्स केस।

4) मुंब्रा एमडी ड्रग्स केस।

5) जोगेश्वरी 1 किलो चरस केस।

6) डोंगरी एमडी ड्रग्स केस।

संजय सिंह कर रहे मामलों की जांच
इन मामलों की जांच NCB के DDG, ऑपरेशन संजय सिंह कर रहे हैं। हालांकि, इन केस से समीर वानखेड़े को हटाया नहीं गया है, वे IPS संजय सिंह को लगातार इनमें सहयोग करते रहेंगे। इसकी पुष्टि NCB की मुंबई विंग ने एक आधिकारिक बयान में भी की है।

ऐसे SIT के हाथ में आया ड्रग्स केस
2 अक्टूबर मुंबई के पास जहाज पर चल रही ड्रग्स पार्टी पर NCB ने छापेमारी की थी। इस कार्रवाई में बॉलीवुड अभिनेता शाहरूख खान के बेटे आर्यन खान को NCB ने गिरफ्तार किया था। इसके अलावा कई अन्य लोगों को भी पकड़ा गया था।

इस घटना के बाद अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नवाब मलिक मीडिया के सामने आये और उन्होंने खुलासा किया कि यह पहले से टारगेटेड रेड थी और पैसों की उगाही के लिए समीर वानखेड़े ने प्राइवेट लोगों का इस्तेमाल किया था। इसके बाद उन्होंने वानखेड़े के धर्म और कास्ट को लेकर भी आरोप लगाए।

मलिक ने अपने दामाद को भी झूठे मामले में फंसाने का आरोप लगाया था। लगातार वानखेड़े पर लग रहे आरोप के बाद NCB ने इस मामले में SIT गठित कर 6 केस उसे सौंप दिए थे।