ओमिक्रॉन के लिए महाराष्ट्र कितना तैयार:एक्सपर्ट ने कहा- मुंबई में उतरती हैं सभी विदेशी फ्लाइट्स, इसलिए यहां खतरा ज्यादा

मुंबई6 महीने पहलेलेखक: वैशाली करोले
  • कॉपी लिंक
CovidRxExchange के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं डॉ. शशांक हेडा। - Dainik Bhaskar
CovidRxExchange के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं डॉ. शशांक हेडा।

कोरोनावायरस का नया ओमिक्रॉन वैरिएंट ने कई देशों की चिंता बढ़ा दी है। यह डेल्टा वैरिएंट से 30 गुना ज्यादा खतरनाक बताया जा रहा है। यह वायरस उन लोगों को भी संक्रमित कर रहा है, जिन्होंने कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक ले ली हैं। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि यह ओमिक्रॉन वैरिएंट रूप बदलने पर कितना जानलेवा हो सकता है।

इस मुद्दे पर भास्कर ने CovidRxExchange के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, डॉ. शशांक हेडा से बात की। डॉ. हेडा महाराष्ट्र समेत कई राज्यों की सरकार को कोविड से जुड़ी नीति बनाने की सलाह देते हैं। उन्होंने बताया कि ओमिक्रॉन को महाराष्ट्र में प्रवेश करने से रोकने के लिए सरकार क्या सावधानियां बरत रही है।

मूल रूप से अमरावती के रहने वाले और वर्तमान में अमेरिका में रहने वाले डॉ शशांक हेड़ा ने नागपुर मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी की है। 10 साल तक उन्होंने मुंबई में भी काम किया था।

डॉ. शशांक हेडा से बातचीत के मुख्य अंश...

ओमिक्रॉन से लड़ने के लिए महाराष्ट्र सरकार कितनी तैयार है?
डॉ. शशांक हेडा ने बताया, ''दक्षिण अफ्रीका में 24 नवंबर को इस वायरस का पता चलने के बाद से मैं महाराष्ट्र सरकार के कोविड टास्क फोर्स के प्रमुख से बातचीत कर रहा हूं। मेरी राय में, महाराष्ट्र सरकार कोविड को लेकर बहुत अच्छा काम कर रही है। अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर प्रतिबंध लगाने का काम केंद्र का है, इस पर राज्य सरकार कुछ नहीं कर सकती है।

विदेशों से सबसे ज्यादा लोग मुंबई आते हैं और यह सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। ट्रेवल बैन का हक नहीं होने के कारण महाराष्ट्र सरकार के पैरों में बेड़ियां पड़ गई हैं। यहां विदेश से आए लोगों में इस वायरस के फैलने का खतरा ज्यादा है। ऐसे में महाराष्ट्र सरकार के सामने एक बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है।

आप की महाराष्ट्र सरकार से जुड़े किन एक्सपर्ट्स से बात हो रही है?
महाराष्ट्र सरकार में कोविड को लेकर बना विशेषज्ञों का ग्रुप बहुत कारगर है। मुझे लगता है कि प्रदीप व्यास, इकबाल सिंह चहल, काकानी, म्हैसेकर सहित कई लोग महाराष्ट्र सरकार में अपना काम ठीक ढंग से कर रहे हैं। हम सब लगातार मुख्यमंत्री से चर्चा कर रहे हैं।

महाराष्ट्र में स्कूल शुरू करने का निर्णय कितना उचित निर्णय है?
यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह बिल्कुल भी बुरी बात नहीं है। फिलहाल स्कूल शुरू करने का फैसला 15 दिसंबर तक के लिए टाल दिया गया है. इन दो हफ्तों में हमारे पास यह सोचने का समय होगा कि क्या वायरस वास्तव में बढ़ रहा है या घट रहा है। उसी के अनुरूप स्कूल शुरू करने का निर्णय लिया जाएगा।

बच्चों के लिए कितना खतरनाक है ओमिक्रॉन वैरिएंट? दक्षिण अफ्रीका में जो लोग एचआईवी से संक्रमित हैं, या जिन्हें कोई गंभीर बीमारी है, या जिनका टीकाकरण नहीं हुआ है, उनमें ओमिक्रॉन का खतरा सबसे ज्यादा है। इसलिए टीकाकरण बहुत जरूरी है। फिलहाल यह कहना मुश्किल है कि छोटे बच्चों के लिए यह वायरस कितना खतरनाक है।

क्या ओमिक्रॉन रूप बदल कर जानलेवा बन सकता है?
ओमिक्रॉन कोरोनावायरस का एक नया रूप है। मानव पीढ़ियों में जिस तरह से बदलाव देखने को मिलते हैं, वही वायरस के मामले में भी होता है। वायरस बहुत छोटा होता है, लेकिन इसका जेनेटिक रूप बदल सकता है। यह कितना खतरनाक है यह आने वाले समय में पता चलेगा.

क्या ओमिक्रॉन के खिलाफ बूस्टर डोज प्रभावी हो सकता है?
इस बारे में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी, लेकिन सबसे पहले कोरोना का टीका लगवाना जरूरी है। टीकाकरण कोरोनावायरस के खिलाफ एक विकल्प नहीं है। बूस्टर खुराक पर विचार करना चाहिए। कोरोना हृदय रोगियों के लिए बेहद खतरनाक है। ऐसे में सभी को टीका लगवाना चाहिए। ओमिक्रॉन के लिए एक नई बूस्टर खुराक जल्द ही सकती है।

खबरें और भी हैं...