कोर्ट से राहत के बाद गरजे नारायण राणे:केंद्रीय मंत्री ने कहा- महाराष्ट्र को बंगाल नहीं बनने देंगे, BJP नेताओं के खिलाफ बयानबाजी बर्दाश्त नहीं

मुंबईएक वर्ष पहले
राणे के खिलाफ पहला केस नासिक में ही दर्ज किया गया था और यहीं से उनके खिलाफ वारंट भी जारी हुआ था। -फाइल फोटो

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर बयानबाजी के मामले में केंद्री मंत्री नारायण राणे को कोर्ट से राहत मिली है। बुधवार को कोर्ट ने कहा कि राणे के खिलाफ नासिक में दर्ज FIR पर 17 सितंबर तक कार्रवाई न की जाए। इसके साथ ही पुणे में दर्ज केस की सुनवाई भी टाल दी गई।

कोर्ट का फैसला आने के बाद राणे ने प्रेस कांफ्रेंस की। इसमें वे भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि मैं किसी से नहीं डरता हूं। शिवसेना को खड़ा करने में मेरा भी बराबर योगदान है। उन्होंने पूछा कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चप्पल से मारने की बात उद्धव ठाकरे ने की थी, उन पर क्या कार्रवाई की गई। भाजपा नेताओं के खिलाफ बयानबाजी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

यात्रा रोकने की कोशिश
हाइकोर्ट के फैसले के बाद राणे ने कहा कि इस फैसले से सिद्ध होता है कि देश कानून से चलता है। उन्होंने कहा कि जन आशीर्वाद यात्रा केंद्र की मोदी सरकार के काम को जन जन तक पहुंचाने के लिए पीएम मोदी निर्देश पर यात्रा निकाली गई। परसों से यह यात्रा फिर से सिंधुदुर्ग से शुरू होगी। हमारी जन आशीर्वाद यात्रा शुरू थी और विरोधियों ने मेरे खिलाफ लड़ाई शुरू कर दी।

शिवसेना और शिवसेना के नेताओं के लिए कोई गलत शब्द नही इस्तेमाल किया। राणे ने कहा कि भारत, भाजपा और हमारे नेताओं के खिलाफ कोई कुछ कहेगा तो मैं सहन नही करूंगा। देवेंद्र फडणवीस जो मार्गदर्शन करेंगे मुझे वह स्वीकार होगा।

कोर्ट ने FIR पर 17 सितंबर तक कार्रवाई न करने को कहा
कोर्ट ने FIR पर 17 सितंबर तक कार्रवाई न करने को कहा है। मंगलवार को नासिक पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था। बाद में वे जमानत पर रिहा हो गए। अब नासिक पुलिस ने अपने यहां दर्ज एक केस में राणे को नोटिस भेजकर उन्हें 2 सितंबर को हाजिर रहने के लिए कहा है।

राणे के खिलाफ पहला केस नासिक में ही दर्ज किया गया था और यहीं से उनके खिलाफ वारंट भी जारी हुआ था। इस बीच राणे की जन आशीर्वाद यात्रा दो दिन के लिए स्थगित कर दी गई है।

राणे की गिरफ्तारी के बाद नासिक में शिवसेना कार्यकर्ताओं ने BJP ऑफिस पर पथराव किया था। इसके बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने पलटवार किया। इस हमले में कुछ शिवसैनिक घायल हुए थे। अब पुलिस ने इस मामले में 100 से ज्यादा लोगों के खिलाफ भद्रकाली पुलिस स्टेशन में केस दर्ज किया है।

राणे को कोर्ट ने दी सशर्त जमानत
महाड कोर्ट ने जमानत देते हुए राणे को 15 हजार का बॉन्ड भरने को कहा था। नासिक पुलिस राणे के ऑडियो को उनके CM के लिए दिए बयान से मैच करना चाहती है, इसलिए राणे को 2 सितंबर को नासिक में बुलाया गया है। राणे को 30 अगस्त और 13 सितंबर को रायगढ़ अपराध शाखा के सामने भी पेश होना है। जमानत देते समय कोर्ट ने राणे को 'सख्त हिदायत' दी कि वे दस्तावेजों और सबूतों से छेड़छाड़ नहीं करें।

खबरें और भी हैं...