पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महाराष्ट्र में बड़ा हादसा:पुणे की केमिकल फैक्ट्री में भीषण आग, 15 महिलाओं समेत 17 कर्मचारियों की मौत; 20 को सुरक्षित निकाला

पुणे2 महीने पहले

पुणे के मुलशी MIDC इलाके की एक केमिकल फैक्ट्री में आग लगने से 15 महिलाओं समेत 17 लोगों की मौत हो गई है। घटना शाम करीब 5 बजे की है। हादसे के दौरान फैक्ट्री में 37 मजदूर काम कर रहे थे। इनमें से 20 को सुरक्षित निकाल लिया गया।

बताया जा रहा है कि SVS नामक इस केमिकल फैक्ट्री में क्लोरीन डाईऑक्साइड बनाया जाता है। फैक्ट्री से पुणे नगर निगम को क्लोरीन की सप्लाई की जाती थी। हादसे के बाद कंपनी का मालिक भी फरार है। अब तक कुल 17 लोगो के शव बाहर निकाले जा चुके है। शवों को पुणे के ससून अस्पताल ले जाया गया है।

फैक्ट्री में फंसे मजदूरों को निकालने और आग बुझाने के लिए दमकल की 8 गाड़ियां पहुंची।
फैक्ट्री में फंसे मजदूरों को निकालने और आग बुझाने के लिए दमकल की 8 गाड़ियां पहुंची।

जेसीबी से तोड़ी दीवार, तब निकला धुंआ
फायर ऑफिसर पोटफोडे ने बताया कि मौके पर दमकल विभाग की 8 गाड़ियां आग बुझाने के लिए पहुंची। फैक्ट्री के एक हिस्से को जेसीबी मशीन से गिराकर उसमें भरे धुंए को निकाला गया। मृतकों में कई ऐसे लोग हैं, जिनकी दम घुटने से मौत हुई है। फैक्ट्री में धुंआ भरने के कारण रेस्क्यू ऑपरेशन में काफी दिक्कत आई।

शॉर्ट सर्किट से आग लगने की आशंका
माना जा रहा है कि धुएं की चपेट में आकर लापता मजदूर फैक्ट्री में ही बेहोश हो गए थे। इसके कारण हादसे के दौरान वे बाहर नहीं निकल पाए। हालांकि अभी तक आग लगने का कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन माना जा रहा है कि शॉर्ट सर्किट एक बड़ी वजह हो सकती है। मुलशी के तहसीलदार अभय और पुलिस निरीक्षक अशोक धूमल भी घटनास्थल पर पहुंचे और रेस्क्यू ऑपरेशन का जायजा लिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मृतकों के परिवार वालों को 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50-50 हजार रुपए मुआवजे की घोषणा की है। वहीं, महाराष्ट्र सरकार की ओर से डिप्टी CM अजित पवार ने मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख और घायलों को 50 हजार रुपए मुआवजा देने की जानकारी दी है।

फैक्ट्री के कई हिस्सों को गिरा कर दमकल कर्मियों ने धुएं को बाहर निकाला।
फैक्ट्री के कई हिस्सों को गिरा कर दमकल कर्मियों ने धुएं को बाहर निकाला।

क्या है क्लोरीन डाईऑक्साइड?
क्लोरीन डाईऑक्साइड को डिस्टिल वाटर में सोडियम क्लोराइट मिलाकर तैयार किया जाता है। यह साफ-सफाई के काम आता है। नाम से ये ब्लीच या क्लोरीन के करीब लगता है। एक्स्पर्ट्स बताते हैं कि ये एक ऐसा कीटाणुनाशक है जिसका इस्तेमाल उद्योगों में किया जाता है। इसे कभी खाने या पीने के इस्तेमाल में नहीं लाना चाहिए। क्लोरीन डाईऑक्साइड पीने से गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं और यहां तक कि जान भी जा सकती है।

खबरें और भी हैं...