पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Rajasthan Government Crisis (Sachin Pilot Vs Ashok Gehlot): Shiv Sena Mouthpiece Saamana On Deputy Chief Minister Sachin Pilot

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

‘सामना’ में सचिन पायलट की तुलना चूहे से की:शिवसेना ने मुखपत्र में लिखा- पायलट की महत्वाकांक्षा मुख्यमंत्री बनने की है, उनका अहंकार राजस्थान की सरकार को अस्थिर कर रहा

मुंबई10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिवसेना के मुखपत्र में चीन के मुद्दे को लेकर पीएम मोदी और भाजपा पर निशाना साधा है। - Dainik Bhaskar
शिवसेना के मुखपत्र में चीन के मुद्दे को लेकर पीएम मोदी और भाजपा पर निशाना साधा है।
  • शिवसेना ने लिखा है कि गलवान में सैनिकों की शहादत को भूलकर राजस्थान में खरीद-फरोख्त में लगी है भाजपा
  • जीभ पर लगे खून के पचने से पहले राजस्थान में गहलोत सरकार को गिराकर डकार लेने की स्थिति में दिख रही

राजस्थान में जारी सियासी हलचल के बीच शिवसेना ने बागी तेवर अख्तियार करने वाले सचिन पायलट की तुलना चूहे से की है। शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र सामना की संपादकीय में लिखा है, सचिन पायलट का अहंकार राज्य की सरकार को अस्थिर कर रहा है।

राजस्थान सरकार को अस्थिर करने के पीछे भाजपा का हाथ 

इसके लिए शिवसेना ने भाजपा को जिम्मेदार ठहराया है। सामना ने लिखा है- गलवान में सैनिकों की शहादत को भूलकर भाजपा राजस्थान में खरीद-फरोख्त में लगी है। एक ओर जहां देश कोरोना संकट से जूझ रहा है। वहीं, भाजपा ने कुछ अलग ही उपद्रव मचाया हुआ है। इस दौरान भाजपा ने मध्य प्रदेश में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिराई।

अपनी जीभ पर लगे खून के पचने के पहले ही राजस्थान में गहलोत सरकार को गिराकर डकार लेने की स्थिति में भाजपा दिख रही है, लेकिन यह संभव नहीं लगता। भाजपा इसके लिए खुलकर कुछ नहीं कर रही है, लेकिन सरकार को अस्थिर करने के लिए पर्दे के पीछे से उनका राष्ट्रीय कार्य चल ही रहा है।

शिवसेना ने यह भी लिखा कि मोदी और शाह द्वारा एक विशाल कार्यक्रम लागू करने और एक तूफान खड़ा करने के बावजूद भाजपा को राजस्थान में सत्ता नहीं मिली। लोग कांग्रेस की तरफ थे। बेशक पायलट ने इस जीत के लिए कड़ी मेहनत की, लेकिन जब आज पार्टी मुश्किल में है, तो उन्हें नाव से कूदकर भागनेवाले चूहे की तरह का काम करके खुद को कलंकित नहीं करना चाहिए।

पायलट का यह कदम आत्मघाती 
संपादकीय में यह भी लिखा है- पायलट की महत्वाकांक्षा राजस्थान का मुख्यमंत्री बनने की है। वे युवा हैं और भविष्य में उनके लिए मौका है, लेकिन गहलोत द्वेष के कारण वे भविष्य में नहीं, बल्कि वर्तमान में ही एक बड़ी लड़ाई लड़कर मुख्यमंत्री पद हासिल करना चाहते हैं। यह कदम उनके लिए आत्मघाती साबित हो सकता है। पायलट का अहंकार राजस्थान जैसे राज्य को अस्थिर कर रहा है, लेकिन केंद्रीय सत्ता का साथ मिले बिना ये सब संभव नहीं है। केंद्र सरकार विपक्षी सरकार को अस्थिर करने के सूत्र पर काम कर रही है।

कुछ घरों को विरोधियों के लिए छोड़ देना ही लोकतंत्र की शान है
आखिर में संपादकीय में कहा गया है, 'देश के सामने कोरोना के कारण चरमराई अर्थव्यवस्था और लद्दाख में चीनी घुसपैठ सहित कई मुद्दे हैं। लद्दाख सीमा पर हमारे 20 सैनिकों का गिरा खून अभी भी ताजा है। इन सभी मुद्दों को सुलझाने की बजाय राजस्थान में कांग्रेस के भीतरी विवाद में टांग डालकर खरीद-फरोख्त को बढ़ावा देने का काम चल रहा है। रेगिस्तान में राजनीतिक उपद्रव का तूफान पैदा करके भाजपा क्या हासिल करना चाहती है? इससे संसदीय लोकतंत्र रेगिस्तान में बदल जाएगा। देश में भाजपा की पूरी सत्ता है। कुछ घरों को उन्हें विरोधियों के लिए छोड़ देना चाहिए। इसी में लोकतंत्र की शान है!'

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

और पढ़ें